उत्तर प्रदेशलखनऊ

उप्र में पत्थरबाजी का लखनऊ में व्यापक असर, एलआईयू सक्रिय

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में पत्थरबाजी का लखनऊ में व्यापक असर है और मुस्लिमबहुल क्षेत्रों में एलआईयू सक्रिय हो गई है। मुस्लिम क्षेत्रों में प्रमुख मार्गो, धार्मिक स्थलों, सरकारी विभाग के कार्यालयों, चाय पान की दुकानों, भीड़भाड़ वाले छोटे बड़े जगहों पर एलआईयू पैनी नजर बनाए हुए है।

बीते शुक्रवार के बाद पत्थरबाजी की घटनाओं के होने का लखनऊ में असर होता देखकर कमिश्नरेट पुलिस ने सतर्कता बरती है। पुलिस कमिश्नर के निर्देश के बाद पुलिस उपायुक्त, अपर पुलिस आयुक्त, निरीक्षकों ने अपने क्षेत्र में पैदल गश्त की। एलआईयू कार्यालय पर बैठक हुई और निरीक्षकों, उपनिरीक्षकों को सक्रिय किया गया।

लखनऊ में भी शुक्रवार को टीले वाली मस्जिद के साथ ही कुछ स्थानों पर नारेबाजी की गयी थी। ऐसे में अतिसंवेदनशील क्षेत्रों मदेयगंज, खदरा, मक्कागंज, फैजुल्लागंज, पक्का पुल, नक्खास, सआदतगंज, बाजारखाला, ठाकुरगंज और अन्य में एलआईयू ने अपना जाल बिछा दिया है। एलआईयू के तेजतर्रार नेटवर्क में हर वह व्यक्ति जो संदिग्ध भूमिका में हो सकता है, उस पर नजर रखी जा रही है।

कैसरबाग और अमीनाबाद क्षेत्रों को संवदेनशील मानते हुए वहां भी सतर्कता बरती जा रही है। दोनों ही क्षेत्रों में छोटे-छोटे मोहल्ले हैं और उसमें मुखबिरों को सक्रिय किया गया है। जिससे किसी अप्रिय घटना के साजिशकर्ता को रोका जा सके। फैजुल्लागंज में सादी वर्दी में पुलिसकर्मियों को भी लगाया है, सीतापुर रोड और घंटाघर के पीछे फैले इस क्षेत्र में आवाजाही पर नजर रखी जा रही है।

लखनऊ में पत्थरबाजी का असर ही है, जो मुस्लिम धर्मगुरु मौलाना सुफियान का बयान सामने आया। उन्होंने अपने बयान में शांति व्यवस्था कायम करने की अपील करते हुए भाजपा से निकाली गई नेता नूपुर के गिरफ्तारी की मांग भी की। अन्य प्रमुख मुस्लिम धर्मगुरुओं ने भी माहौल को देखते हुए नूपुर की गिरफ्तारी को प्रमुखता से उठाया है।

वहीं, मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के राष्ट्रीय पदाधिकारियों ने लखनऊ में बैठक की और शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए मुस्लिम पक्ष से अपील की । मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के पदाधिकारियों ने पत्थरबाजी की घटना को गलत ठहराया और कहा कि इस प्रकार की घटना नहीं होनी चाहिए।

Saurabh Bhatt

सौरभ भट्ट पिछले दस सालों से मीडिया से जुड़े हैं। यहां से पहले टेलीग्राफ में कार्यरत थे। इन्हें कई छोटे-बड़े न्यूज़ पेपर, न्यूज़ चैनल और वेब पोर्टल में रिपोर्टिंग और डेस्क पर काम करने का अनुभव है। इनकी हिन्दी और अंग्रेज़ी भाषा पर अच्छी पकड़ है। साथ ही पॉलिटिकल मुद्दों, प्रशासन और क्राइम की खबरों की अच्छी समझ रखते हैं।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button