अमेठीउत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरबड़ी खबर

अमेठी में बारूदी विस्फोट से उड़ा दो मंजिला मकान।

 

अमेठी जिले के जामों थाना क्षेत्र अंतर्गत दखिनवारा गांव में शनिवार की शाम करीब 6 बजे के आस पास मोहम्मद इकबाल हुसैन के घर में तेज़ धमाके के साथ विस्फोट हुआ। जिसके बाद दौड़ कर ग्रामीण धटना स्थल पर पहुंचे जहां पर धमाके में एक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया था जिसको तत्काल इलाज के लिए जगदीशपुर स्थित निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया। ग्रामीण बताते हैं की धमाका इतना तीव्र था कि लगभग 1.5 किलोमीटर दूर तक इसकी आवाज सुनी गई। धमाके के बाद से ग्रामीणों के अंदर डर और दहशत पैदा हो गई है। हालांकि तत्काल स्थानीय पुलिस अपने बचाव में उतर आई और यह कहने लगी कि यह हादसा घरेलू गैस सिलेंडर फटने के चलते हुआ है। किंतु यह बात न स्थानीय लोगों के और न ही मीडिया के गले के नीचे उतर रही थी। इसी बीच जिले के तेजतर्रार पुलिस अधीक्षक इलामारन जी के द्वारा मामले की तह तक पहुंचने के लिए रविवार की सुबह पुलिस क्षेत्राधिकारी गौरीगंज के नेतृत्व में फॉरेंसिक टीम को जांच के लिए भेजा गया। फॉरेंसिक टीम को कुछ खास हाथ नहीं लगा इसके बाद पुलिस अधीक्षक महोदय ने फायर ब्रिगेड की टीम को भेजा जैसे ही फायर ब्रिगेड टीम मौके पर पहुंची तत्काल उसने बताया कि यह विस्फोट गैस सिलेंडर का विस्फोट नहीं है यह बारूदी विस्फोट लग रहा है। मौके पर पहुंचे जनपद मुख्यालय गौरीगंज तहसील के एसडीएम राकेश कुमार ने तत्काल ग्राम प्रधान को बुलाकर मनरेगा के मजदूरों से मलबा हटवाना शुरू किया। जिसके बाद वहां पर एक एक कर अहम सबूत मिलते गए जिससे यह स्पष्ट हुआ कि यह सिलेंडर नहीं फटा है बल्कि बारूदी विस्फोट हुआ है । बताया जा रहा है कि मलबे में भारी मात्रा में बारूद बरामद हुआ। इसके उपरांत पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर अयोध्या से BDDS की टीम को बुलाया गया इस टीम के साथ डॉग स्क्वायड भी मौजूद था। मौके पर पहुंची बीडीडीएस की टीम ने गन पाउडर को लेकर गहनता से निरीक्षण करते हुए जांच रिपोर्ट से पुलिस अधीक्षक महोदय को अवगत कराया। जिसके बाद पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर मौके पर मिले गन पाउडर को आगे की जांच के लिए प्रयोगशाला भेजा दिया। यही नहीं सभी प्रकार की जांच प्रक्रिया पूरी कराने के बाद पुलिस अधीक्षक ने देर शाम घटनास्थल का दौरा करने पहुंचे और वहां पर मौजूद 1–1 चीज का बारीकी से निरीक्षण करते हुए यथा आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इस मौके पर जिले के अपर पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार पांडे ने बताया कि सारे जांच के उपरांत यह पता लगा है कि यह सिलेंडर से विस्फोट नहीं हुआ था बल्कि पटाखों का विस्फोट था। गृहस्वामी के पास पटाखा बनाने बेचने और रखने का कोई लाइसेंस नहीं था। इसलिए अभियुक्त के खिलाफ जामो थाने में उचित धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर कार्यवाही की जा रही है। इसके संबंध में जिले के सभी थानों को निर्देशित किया गया है कि सभी अपने क्षेत्रों में इस बात की जांच करें कि कोई भी व्यक्ति पटाखों का अवैध रूप से कारोबार तो नहीं कर रहा है यही नहीं वैध लाइसेंस धारकों की भी जांच के लिए निर्देश दिए गए हैं। बीडीडीएस की टीम ने जांच के उपरांत यह बताया है कि यह बारूद हल्के फुल्के पटाखे सुतली बम इत्यादि बनाने में प्रयोग किए जाते हैं इस टाइप का काम यहां पर किया जा रहा था यही नहीं कुछ बाहर से पटाखे मंगा कर रखे गए थे। इस घटना में इकबाल हुसैन के दामाद के रूप में एक ही व्यक्ति घायल हुआ था जिसका इलाज किया गया और वह अब डिस्चार्ज होकर घर आ गया है। फिलहाल अभी भी इस मामले में बहुत सारे राज ऐसे हैं जो उजागर होने बाकी हैं । क्योंकि स्थानीय लोगों का कहना है कि यह व्यक्ति पटाखे अथवा आतिशबाजी का कार्य नहीं करता था । लेकिन जब वह ऐसा कार्य नहीं करता था तब उसके घर पर इतनी मात्रा में बारूद कहां से आई? आखिर स्थानीय थाने की पुलिस इस पूरे मामले को दबाने में क्यों जुटी थी? इकबाल हुसैन के तार और कहां-कहां से जुड़े हैं ? कहां कहां से है बारूद मंगाता था और कहां-कहां सप्लाई करता था ? इन सारे विषयों पर अभी रहस्योद्घाटन करना बाकी है।

 

Lokesh Tripathi

पूरा नाम - लोकेश कुमार त्रिपाठी शिक्षा - एम०ए०, बी०एड० पत्रकारिता अनुभव - 6 वर्ष जिला संवाददाता - लाइव टुडे न्यूज़ चैनल एवं हिंदी दैनिक समाचारपत्र "कर्मक्षेत्र इंडिया" उद्देश्य - लोगों को सदमार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करना। "पत्रकारिता सिर्फ़ एक शौक" इच्छा - "ख़बरी अड्डा" के माध्यम से "कलम का सच्चा सिपाही" बनना।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button