अन्य

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने इन मुद्दों पर विदेशी पत्रकारों से की बातचीत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत जी ने मंगलवार को नई दिल्ली में 30 से अधिक देशों के विदेशी पत्रकारों से संवाद किया. नई दिल्ली के अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में 50 से अधिक मीडिया संगठनों के 80 से अधिक पत्रकार मौजूद रहे.

Mohan Bhagwat

यह कार्यक्रम संघ की उन कोशिशों का हिस्सा है, जिसके तहत सरसंघचालक मोहन भागवत समाज के विभिन्न वर्गों से रचनात्मक संवाद कर संघ की कार्यपद्धति के बारे में बताने के साथ विरोधियों की ओर से फैलाई गई गलत धारणाओं को खारिज करते हैं. मोहन भागवत का विदेशी पत्रकारों से करीब ढाई घंटे संवाद चला. इस दौरान अर्थव्यवस्था, आरक्षण, अनुच्छेद 370, एनआरसी, मॉब लिंचिंग, यूनिफॉर्म सिविल कोड आदि मुद्दों पर विदेशी पत्रकारों ने सवाल पूछे.

मोहन भागवत ने विदेशी मीडिया प्रतिनिधियों के साथ आरएसएस के विजन और कार्यों की जानकारी दी. इसके बाद सवाल-जवाब का सिलसिला शुरू हुआ. संघ के सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर जब सवाल हुआ तो संघ ने कहा कि पहले कश्मीरियों को अलग-थलग करने की कोशिश हुई थी. मगर अब ऐसा नहीं हो सकेगा. एकता और अखंडता की राह में आने वाली बाधाओं को दूर किया जाएगा. उन्हें जमीन और नौकरियां खोने का जो डर है, उसे दूर किया जाएगा.

आरक्षण के सवाल पर संघ प्रमुख ने कहा कि हम आरक्षण का समर्थन करते हैं मगर इसका उचित क्रियान्वयन होना चाहिए. एनआरसी पर संघ की तरफ से कहा गया कि यह लोगों को बाहर निकालने के लिए नहीं लाया गया बल्कि यह लोगों को चिन्हित करने के लिए है. केंद्र सरकार की ओर से प्रस्तावित सिटिजिनशिप अमेंडमेंट बिल का संघ ने समर्थन किया. कहा गया कि भारत के अलावा दुनिया में और कहीं हिंदुओं को स्थान नहीं है.

बेटे ने रेती पिता की गर्दन, मां और भाई का किया बुरा हाल

मॉब लिंचिंग में जो लिप्त हो, उसे सजा मिले

सूत्रों के मुताबिक, मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर जब विदेशी पत्रकारों ने पूछा तो संघ ने कहा कि हम हर तरह की हिंसा की निंदा करते है. स्वयंसेवक ऐसी हिंसा रोकने की कोशिशें करें. यदि कोई स्वयंसेवक दोषी पाया जाता है तो कानून अपना काम करेगा. बैठक में संघ ने हर भारतीय को हिंदू बताया. हर भारतीय हिंदू है.

राम मंदिर के मसले पर कहा गया कि यह सिर्फ पूजापाठ का मामला नहीं है, यह जन्मस्थान से जुड़ा मामला है. समलैंगिकता पर कहा कि इसे असामान्यता के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए. उन्हें भी समाज में जगह मिलनी चाहिए. आरएसएस ने कहा कि हम कभी राजनीतिक संगठन नहीं बनेंगे. यूनिफॉर्म सिविल कोड को लेकर कहा कि हम इसका समर्थन करते हैं. लेकिन आम सहमति बनाने का प्रयास किया जाना चाहिए. आइडिया देश को एक साथ लाने का होना चाहिए. अर्थव्यवस्था पर कहा कि यूपीए के दस साल की तरह पैरालिसिसिस नहीं है. हालांकि हम एक्सपर्ट नहीं हैं.

इस मौके पर आरएसएस के सरकार्यवाह सुरेश भैय्याजी जोशी, सर कार्यवाह डॉ. मनमोहन वैद्य, डॉ. कृष्ण गोपाल, उत्तर क्षेत्र संघचालक बजरंग लाल गुप्त, दिल्ली प्रांत संघ चालक कुलभूषण आहूजा मौजूद रहे.

Show More

Saloni

सलोनी भल्ला पत्रकारिता में पिछले चार साल से एक्टिव हैं। यहां से पहले अमर उजाला में कार्यरत थीं। "खबरी अड्डा" के बाद साथ-साथ लाइव टुडे में भी कार्यरत हैं। वॉयस ओवर आर्टिस्ट, कंटेंट राइटिंग, कंटेंट एडिटिंग और एंकरिंग में एक्सपीरियंस है। लेखन में पॉलीटिकल, क्राइम, एंटरटेनमेंट, ब्यूटी और हेल्थ के साथ-साथ गली मोहल्लों  की खबरों से लेकर सोशल मीडिया तक की चहल-पहल पर अपनी पैनी नजर रखती हैं।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button