खबर तह तक

गनपत सहाय पी०जी० कॉलेज के NSS की प्रथम, पंचम एवं छठी इकाई के सात दिवसीय शिविर का आज रहा तीसरा दिन।

गनपत सहाय पी०जी० कॉलेज के NSS की प्रथम, पंचम एवं छठी इकाई के सात दिवसीय शिविर का आज रहा तीसरा दिन।

सुल्तानपुर – आज गनपत सहाय पीजी कॉलेज सुल्तानपुर के राष्ट्रीय सेवा योजना के प्रथम पंचम एवं छठी इकाई के सात दिवसीय शिविर के तीसरे दिन सरस्वती वंदना और राष्ट्रीय सेवा योजना के लक्ष्य गीत के साथ कार्यक्रम की शुरुआत हुई । प्रथम सत्र में पोस्टर प्रतियोगिता आयोजित हुई एवं चयनित ग्राम में जाकर पर्यावरण संरक्षण रैली निकाली गई। द्वितीय सत्र में जिला महिला चिकित्सालय की स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर रिचा शुक्ला ने पोषक आहार और हमारा स्वास्थ्य विषय पर तथा महिलाओं में रक्ताल्पता के कारण एवं निवारण पर व्याख्यान दिया । उन्होंने कहा कि’ हेल्थ इज वेल्थ, स्वास्थ्य है तो सब कुछ है । डिब्बाबंद और पैकेट बंद खाद्य पदार्थों का हमें पूरी तरह परहेज करना चाहिए क्योंकि इससे अनेक बीमारियां होती हैं । स्वयंसेवक एवं स्वयं सेविकाओं से उन्होंने कहा कि आप गांव में जाकर लोगों को बताएं कि वह बथुआ चौराई मरसा जो कि घर घर में है उसका प्रयोग करें गुड़ खाएं चना खाए । गर्भवती और धात्री माताओं को विशेष रूप से इन बातों का ख्याल रखना चाहिए क्योंकि प्राय :शरीर में रक्त की कमी हो जाती है और उनके प्राण संकट में पड़ जाते हैं।

गनपत सहाय पी०जी० कॉलेज के NSS की प्रथम, पंचम एवं छठी इकाई के सात दिवसीय शिविर का आज रहा तीसरा दिन।

भारतीय स्टेट बैंक में पूर्व में कार्यरत  शिव विजय सिंह ने बच्चों को डिजिटल पेमेंट के विषय में जानकारी दी और बताया कैसे हमारा समय और श्रम दोनों बचता है । साथ ही भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने में भी यह महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा । उन्होंने कहा कि प्रात काल से सावधान रहिए । क्योंकि बैंक कभी अपने ग्राहकों को फोन नहीं करता बल्कि मैसेज भेजता है । डॉ अनुराग ने आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ते कदम विषय पर व्याख्यान दिया । पीआरडी परेड से लौटे और स्वयं सेवक अभिषेक दुबे ने बच्चों को पीआरडी परेड के लिए कैसे तैयारी की जाए के विषय में बताया। कार्यक्रम में सभी कार्यक्रमाधिकारी डॉ सुधा , डॉक्टर नीलम, डॉक्टर गीता एवं डा अरुण मिश्रा एवं अनेक प्राद्यापक और बच्चे उपस्थित रहे।

गनपत सहाय पी०जी० कॉलेज के NSS की प्रथम, पंचम एवं छठी इकाई के सात दिवसीय शिविर का आज रहा तीसरा दिन।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More