उत्तर प्रदेशलखनऊसियासत-ए-यूपी

यूपी चुनाव में कितनी सफल होगी एक्सप्रेस वे की सियासत… अखिलेश-माया को मिली थी मायूसी, क्या योगी होंंगे कामयाब..

उत्तर प्रदेश में 16 नवंबर को पीएम मोदी योगी सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का शुभारंभ करेंगे। सरकार का दावा है कि कोरोना महामारी के बीच सरकार ने एक्सप्रेस वे को तय समय के भीतर पूरा कराया है। वहीं अखिलेश यादव इस एक्सप्रेस वे को अपनी उपलब्धि बताते हैं। बहरहाल यूपी में एक्सप्रेस वे की सियासत कोई नई नहीं है। इसके जरिए सरकार सत्ता में वापसी का रास्ता तलाशती हैं लेकिन पिछला रिकॉर्ड बताता है कि एक्सप्रेस वे की सियासत भी काम नहीं आई। यूपी में पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने पहली बार आगरा से दिल्ली तक यमुना एक्सप्रेस बनवाया था लेकिन जनता ने उन्हें सत्ता से बेदखल कर दिया। इसी तरह अखिलेश यादव ने भी अपने कार्यकाल में मायावती से बड़ी लकीर खींचने की कोशिश की और आगरा- लखनऊ एक्सप्रेस वे का निर्माण कराया। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ एक नहीं बल्कि चार एक्स्प्रेस वे बनाने का प्रयास कर रहे हैं लेकिन सबसे बड़ा सवाल है कि क्या योगी एक्सप्रेस वे के सहारे सत्ता में वापसी करने में कामयाब होंगे या उन्हें भी माया-अखिलेश की तरह मायूसी ही हाथ लगेगी।

पूर्वांचल एक्सप्रेस वे परियोजना

2017 से पहले, उत्तर प्रदेश का पूर्वी हिस्सा सबसे अधिक उपेक्षित क्षेत्र था। हालांकि मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव दोनों ने पूर्वी यूपी में अपनी संसदीय सीटों पर जीत हासिल की, लेकिन उन्होंने इस क्षेत्र के विकास की कभी परवाह नहीं की। समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने इस क्षेत्र के लिए चुनावी वादे किए लेकिन कुछ भी शुरू नहीं किया। मुख्यमंत्री बनने से पहले ही, योगी आदित्यनाथ पूर्वी यूपी की लोकसभा सीट गोरखपुर से पांच बार सांसद रह चुके हैं। योगी जानते थे कि पूर्वी यूपी में एक एक्सप्रेस-वे, कवर किए गए क्षेत्रों के सामाजिक और आर्थिक विकास के साथ-साथ कृषि, वाणिज्य, पर्यटन और उद्योगों की आय को बढ़ावा देगा। पूर्वी यूपी में एक एक्सप्रेसवे हथकरघा उद्योग, खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों, भंडारण संयंत्र, मंडी और दूध आधारित उद्योगों की स्थापना के लिए उत्प्रेरक के रूप में कार्य करेगा। इसी सोच के तहत योगी सरकार ने लखनऊ से गाजीपुर तक 340 किलोमीटर लंबा एक्सप्रेस वे बनवाया जिसका शुभारंभ मोदी 16 नवंबर को करेंगे।

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे परियोजना

पिछली सरकारों में, लखनऊ से परियोजनाएं और योजनाएं यूपी के बुंदेलखंड क्षेत्र के दूरदराज के जिलों तक कभी नहीं पहुंचीं। कई बुंदेलखंड पैकेज आए और गए लेकिन कुछ भी ज्यादा नहीं चला। बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे परियोजना के साथ योगी ने इस क्षेत्र के साथ सौतेले भाईचारे के दशकों के चलन को उलट दिया। योगी सरकार ने चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर, जालौन, औरैया और इटावा जिलों को जोड़ते हुए चित्रकूट से इटावा तक 300 किलोमीटर लंबी बुंदेलखंड एक्सप्रेस परियोजना शुरू की। यह चार लेन विभाजित कैरिजवे छह लेन तक विस्तार योग्य है।

गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे परियोजना

गोरखपुर लिंक एक फोर-लेन (6 लेन तक विस्तार योग्य) एक्सप्रेसवे है जो 91.3 किमी लंबा है, जो पूर्वी यूपी के चार जिलों – गोरखपुर, आजमगढ़, अंबेडकरनगर, संत कबीरनगर को पूर्वांचल एक्सप्रेसवे से जोड़ेगा। जून-2021 के मध्य तक 97.18% क्लियरिंग और ग्रबिंग का काम पूरा हो चुका है और 49% मिट्टी का काम पूरा हो चुका है। परियोजना की कुल भौतिक प्रगति का 24 प्रतिशत से अधिक पूरा किया जा चुका है। परियोजना को अप्रैल, 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

प्रयागराज से मेरठ तक गंगा एक्सप्रेस वे

यूपी में लगभग 600 किमी ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे परियोजना के साथ, योगी सरकार भारत का दूसरा सबसे लंबा राज्य एक्सप्रेसवे बनाने की प्रक्रिया में है, मेरठ के बिजौली गांव से प्रयागराज तक, यूपी के 12 जिलों को जोड़ने वाले – मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर, अमरोहा, संभल, बदायूं, शाहजहांपुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ़ और प्रयागराज। यह 6 लेन का एक्सप्रेसवे होगा जिसे 8 लेन तक बढ़ाया जा सकेगा। एक्सप्रेस-वे के राइट-ऑफ-वे (आरओडब्ल्यू) की चौड़ाई एक्सप्रेस-वे के एक तरफ 120 मीटर प्रस्तावित है। गंगा एक्सप्रेस-वे का भूमि अधिग्रहण कार्य युद्धस्तर पर चल रहा है। इस एक्सप्रेस-वे के लिए आवश्यक कुल 7,800 हेक्टेयर में से लगभग 64% का अधिग्रहण किया जा रहा है। गंगा एक्सप्रेसवे प्री-बिड चर्चा समाप्त हो गई है, प्रश्नों का उत्तर दिया गया है और यह बहुत जल्द बोली चरण में पहुंच जाएगा।

मायावती ने दिया था यूपी को पहला एक्सप्रेस वे

यमुना एक्सप्रेस वे, जिसे ताज एक्सप्रेसवे के रूप में भी जाना जाता है, एक 6-लेन, 165-किमी लंबा, नियंत्रित-पहुंच ड्राइव वे है, जो राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में ग्रेटर नोएडा को उत्तर प्रदेश में आगरा से जोड़ता है। यह देश का सबसे लंबा छह लेन वाला एक्सप्रेसवे है, जिसे 14000 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से बनाया गया है। यमुना एक्सप्रेसवे का उद्घाटन 9 अगस्त 2012 को यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने किया था। इसे जेपी ग्रुप ने बनाया है। मायावती के समय में हालांकि यह पूरा नहीं हो पाया और इसका शुभारंभ अखिलेश यादव की सरकार बनने बे तीन महीने के बाद हुआ था। लेकिन विकास के दावे करने वाली मायावती को जनता ने चुनाव में नकार दिया था।

अखिलेश ने बनवाया आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे

समाजवादी पार्टी (सपा) सुप्रीमो, मुलायम सिंह यादव के 75 वें जन्मदिन के एक दिन बाद, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस कार्यक्रम को चिह्नित करने के लिए अपने पिता के लिए एक भव्य समारोह आयोजित किया। मुलायम ने उसी दिन आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे की आधारशिला रखी, और जब वे भाषण देने के लिए मंच पर गए, तो उन्होंने कहा: “जब हम मुख्यमंत्री थे, तब शिलान्यास के समय ही उद्घाटन की तारीख भी तय हो जाती थी (जब मैं मुख्यमंत्री था, हम शिलान्यास के समय उद्घाटन की तारीख तय करेंगे।” आगरा विश्वविद्यालय के मैनेजमेंट कॉलेज के डीन प्रोफेसर लव कुश मिश्रा कहते हैं कि, ” मुलायम के परिवार के सभी सदस्य मौजूद थे। यह यादव वोटबैंक को एक सकारात्मक संदेश देने का प्रयास किया था। यह भी स्पष्ट करता है कि अखिलेश यादव अपने विकास एजेंडे के साथ, आने वाले विधानसभा चुनाव में अखिलेश को चेहरा बनाया लेकिन इसका फायदा अखिलेश को नहीं मिला। उसी तरह यह जरूरी नहीं कि एक्सप्रेस वे बनवाने से सत्ता में वापसी तय हो जाएगी।

Ramanuj Bhatt

रामअनुज भट्ट तकरीबन 15 सालों से पत्रकारिता में हैं। इस दौरान आपने दैनिक जागरण, जनसंदेश, अमर उजाला, श्री न्यूज़, चैनल वन, रिपोर्टर 24X7 न्यूज़, लाइव टुडे जैसे सरीखे संस्थानों में छोटी-बड़ी जिम्मेदारियों के साथ ख़बरों को समझने/ कहने का सलीका सीखा।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button