अमेठीउत्तर प्रदेशताज़ा ख़बर

R.R.P.G.कॉलेज अमेठी में पिछले 1 सप्ताह से चल रहे फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम का आज हुआ समापन ।

लोकेश त्रिपाठी अमेठी –

देश में फैली कोरोनावायरस के चलते हुए लॉकडाउन में सभी शिक्षण संस्थाएं बंद है । इसी के साथ साथ उच्च शिक्षा में होने वाले शिक्षकों के सेमिनार भी अब नहीं हो पा रहे हैं ।लेकिन उनका स्वरूप जरूर चेंज हो गया है । वह अब वेबीनार के रूप में दुनिया के सामने आ रहे हैं। ऐसे में अमेठी कस्बा स्थित राजर्षि रणंजय सिंह स्नातकोत्तर महाविद्यालय में पिछले 6 जून से लगातार फैकेल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम चल रहा है। जिसका मुख्य विषय “एडवांस टेक्नोलॉजी एंड रिसर्च मेथाडोलॉजी” था।

महाविद्यालय के प्राचार्य डॉक्टर त्रिवेणी सिंह ने बताया कि इसमें राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर के सभी व्याख्याता भाग ले रहे थे और आरआरपीजी कॉलेज अमेठी के 105 शिक्षक ऑनलाइन इस वेबीनार को अटेंड कर रहे थे। इसमें पांच विश्वविद्यालय के कुलपति ने समय-समय पर अपना अमूल्य विचार दिया है ।

आज का परिवेश बदला है। स्थिति सामान्य नहीं है इस असामान्य स्थिति में पढ़ाई की ऐसी कौन सी विधि है जिसको इस्तेमाल किया जाए जिसे अपने देश के नौनिहालों को उच्च शिक्षा के क्षेत्र में जिन से हम बहुत ही उम्मीद करते हैं उनको इस रिसर्च के माध्यम से अच्छे शोध परिणामों को लाकर क्या योगदान दिया जा सकता है।

इन विषयों को लेकर पिछले 6 दिनों से यह फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम चल रहा था। जिसका आज आखरी दिन था। इसमें भारत ही नहीं बल्कि भारत के बाहर विदेशों के विशेषज्ञ अपने ज्ञान से घर बैठे ही अध्यापकों को लाभान्वित कर रहे थे। उच्च शिक्षा में पठन-पाठन की तकनीक तथा रिसर्च के क्षेत्र में जो नई विधियां हैं ।उसके आधार पर अच्छे परिणाम मिले और जिससे जन जन का कल्याण हो सके इन्हीं विषयों को लेकर पिछले 6 दिनों से विचार मंथन चल रहा था।

यह बहुत ही लाभकारी पाठ्यक्रम रहा है। जिसमें देश-विदेश से लगभग 268 लोग पंजीकृत हैं। जिन्होंने अपना व्याख्यान दिया है। इसमें भारत के विभिन्न भागों जम्मू कश्मीर केरल और इटानगर इत्यादि से अभ्यर्थी अपनी भागीदारी कर रहे थे। यह प्रोग्राम प्रतिदिन सुबह 10:00 बजे से अपरान्ह 1 बजे तक चलता था। इससे हमारे महाविद्यालय के सभी फैकल्टी मेंबर को निश्चित रूप से बहुत लाभ हुआ है।

Lokesh Tripathi

पूरा नाम - लोकेश कुमार त्रिपाठी शिक्षा - एम०ए०, बी०एड० पत्रकारिता अनुभव - 6 वर्ष जिला संवाददाता - लाइव टुडे न्यूज़ चैनल एवं हिंदी दैनिक समाचारपत्र "कर्मक्षेत्र इंडिया" उद्देश्य - लोगों को सदमार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करना। "पत्रकारिता सिर्फ़ एक शौक" इच्छा - "ख़बरी अड्डा" के माध्यम से "कलम का सच्चा सिपाही" बनना।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button