खबर तह तक

आखिरकार अमेठी कोतवाली पुलिस की गिरफ्त में आ ही गया रिवाल्वर चोर।

लोकेश त्रिपाठी अमेठी – अपनी तथा अपने परिवार की रक्षा करने वाले हथियारों की सुरक्षा खुद से अधिक करनी पड़ती है। जरा सी चूक होने पर या तो छीन ली जाती है या फिर चोरी हो जाती है ऐसा ही एक मामला अमेठी कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत शुभम होटल के पीछे बने मकान में किराए पर रहने वाले सुभाष चंद्र तिवारी पुत्र यदुनाथ प्रसाद तिवारी द्वारा 19 सितंबर 2020 को अमेठी कोतवाली में लिखित सूचना के माध्यम से तहरीर दिया गया था कि मेरे कमरे का ताला तोड़कर अज्ञात व्यक्तियों के द्वारा मेरी 32 बोर की लाइसेंसी रिवाल्वर जिसका नंबर FG 42200 चोरी कर ली गई है। जिस पर तत्काल प्रभाव से अमेठी कोतवाली में मुकदमा अपराध संख्या 435/20 धारा 454, 380, 411 के अंतर्गत मुकदमा पंजीकृत करते हुए विधिक कार्यवाही शुरू कर दी गई । जिले के पुलिस कप्तान दिनेश सिंह के निर्देशन पर अपर पुलिस अधीक्षक दयाराम सरोज के परीक्षण में अमेठी सर्किल के क्षेत्राधिकारी अर्पित कपूर द्वारा अपराध तथा अपराधियों की धरपकड़ के चलाए जा रहे अभियान के क्रम में पंजीकृत एफ आई आर की विवेचना के दौरान कुछ तथ्य प्रकाश में आए। जिसकी दिशा में प्रभारी निरीक्षक श्याम सुंदर के द्वारा सघन जांच की गई तब पता चला कि खेरौना गांव के रहने वाले कुछ नशेड़ी प्रवृत्ति के लोगों के द्वारा चोरी की नियत से उस घर को निशाना बनाया गया था। जब वह लोग कमरे में दाखिल हुए तब उनके हाथ रिवाल्वर लग गई जिसके बाद यह लोग रिवाल्वर लेकर फरार हो गए । इन सब बातों की जानकारी होने के उपरांत प्रकाश में आए दोनों लोगों पर लगातार निगरानी रखी जा रही थी तभी आज दिनांक 7 नवंबर की सुबह 9:00 बजे के करीब मुखबिर खास से सूचना प्राप्त हुई की उक्त दोनों वांछित अभियुक्त कोतवाली क्षेत्र के दुर्गापुर रोड स्थित बाईपास के पास मौजूद हैं । तभी आनन-फानन में श्याम सुंदर प्रभारी निरीक्षक कोतवाली अमेठी ने उपनिरीक्षक तरुण कुमार पटेल कांस्टेबल चंदन कनौजिया तथा शुभम गौतम को साथ लेकर तत्काल बाईपास पर पहुंचे और दोनों अभियुक्तों को धर दबोचा । पूछताछ में दोनों व्यक्तियों ने अपना अपराध स्वीकार किया तथा उनके पास से चोरी की गई रिवाल्वर भी मौके पर बरामद हुई। दोनों अभियुक्तों को अमेठी कोतवाली पुलिस के द्वारा सुसंगत धाराओं में निरुद्ध करते हुए जेल भेज दिया गया। उपर्युक्त दोनों अभियुक्त अमेठी कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत खेरौना गांव के ही रहने वाले हैं। जिसमें से पहला लवकुश पुत्र रामसूरत और दूसरा सचिन पुत्र विजय है। इस प्रकार निसंदेह प्रभारी निरीक्षक एवं उनकी पूरी टीम ने एक अच्छा वर्कआउट करते हुए सफलता प्राप्त की है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More