खबर तह तक

यूपी: लॉकडाउन में थमे अपराध, लूट की घटनाओं में 90 फीसदी की आई कमी

रिपोर्ट- शादाब सिद्दीकी


लखनऊ।

कोरोना के खिलाफ जंग में पूरा उत्तर प्रदेश लॉक डाउन है। दिन-ब-दिन कोरोना संक्रमण के केस बढ़ते जा रहे हैं, हर दिन कम से कम एक जिला संक्रमण की जद में आता जा रहा है। उधर उत्तर प्रदेश पुलिस की ओर से एक राहत भरी खबर है।

यूपी पुलिस मुख्यालय की तरफ से जारी आंकड़ों के अनुसार संपूर्ण लॉक डाउन घोषित होने के बाद से यूपी में अपराधों की संख्या में भारी कमी आई है। चाहे वह लूट हो या हत्या, सभी में काफी कमी देखने को मिली है।

ये भी पढ़ें: यूपी में लखनऊ बना संक्रमण का दूसरा बड़ा शहर

इन आंकड़ों को लेकर प्रदेश के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर पीवी रामाशास्त्री कहते हैं कि लॉक डाउन को बेहतर तरीक़े से लागू करवाने के लिए पूरी पुलिस फोर्स, पीएसी सड़क पर है. लोगों को घर में रोका गया है, जिसका असर अपराध पर भी दिख रहा है।

यूपी पुलिस मुख्यालय ने जारी किए आंकड़े

यूपी पुलिस मुख्यालय की तरफ से 1 अप्रैल से 15 अप्रैल और 1 मार्च से 15 मार्च के बीच दर्ज किए गए अपराध के तुलनात्मक अध्ययन के साथ आंकड़े जारी किए गए हैं। इनके मुताबिक पूर्ण लॉक डाउन में लूट की घटनाओं में 89 फ़ीसदी की कमी आई है। यूपी में 1 मार्च से 15 मार्च के बीच लूट की 83 घटनाएं हुई थीं, जबकि पूर्ण लॉक डाउन में 1 अप्रैल से 15 अप्रैल के बीच पूरे प्रदेश में लूट की मात्र 9 घटनाएं हुई हैं।

ये भी पढ़ें: सिर्फ लैब टेस्टिंग नहीं कोरोना की वैक्सीन की सम्भावनाओं पर भी कार्य करें संस्थान: सीएम योगी

हत्या के केसों में 35 फीसदी की कमी

इसी तरह से हत्या के मामलों में भी काफी कमी देखने को मिली है। 1 मार्च से 15 मार्च के बीच पूरे प्रदेश में 154 हत्या के मामले दर्ज किए गए थे, वहीं 1 अप्रैल से 15 अप्रैल के बीच पूरे प्रदेश में 100 हत्या के मामले दर्ज किए गए। ये करीब 35 प्रतिशत की कमी है। इसी तरह नकबजनी (सेंधमारी) के मामलों की बात करें तो इनमें भी 58 फीसदी की कमी दर्ज की गई है। 1 मार्च से 15 मार्च के बीच प्रदेश में नकबज़नी की 293 घटनाएं हुई थीं और 1 अप्रैल से 15 अप्रैल के बीच 122 घटनाएं हुई हैं।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More