Khabri Adda
खबर तह तक

आस्था के खेल में उलझा कोरोना।

कोरोना महामारी को रोकने के लिए जहां एक तरफ सरकार लॉकडाउन या फिर कोरोना कर्फ्यू का सहारा ले रही है और 2 गज दूरी मास्क जरूरी जैसे नियमों को लगाकर कोरोनावायरस के चैन को तोड़ना चाहती है । वहीं दूसरी तरफ गांव की अनपढ़ और भोली भाली जनता इस महामारी से बचने के लिए बगैर मास्क तथा सामाजिक दूरी का पालन किए हुए ग्राम देवी को खुश करने में लगी हुई है । उसका मानना है कि ग्राम देवी की नाराजगी के कारण ही यह महामारी आई है । उनको खुश कर महामारी से निजात पाई जा सकती है।

जी हां यह अनोखा मामला वीवीआइपी जनपद किस श्रेणी में शुमार होने वाले तथा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र अमेठी से प्रकाश में आया है । जहां पर अमेठी तहसील क्षेत्र से मात्र 4 किलोमीटर की दूरी पर ग्राम सभा पिंडोरिया में सैकड़ों की संख्या में महिलाओं ने घर से निकल कर एकत्रित होकर बगैर मास्क तथा बगैर सामाजिक दूरी का निर्वहन करते हुए गांव के बाहर बने मंदिर पर ग्राम देवी को खुश करने के लिए पूजा अर्चन करती हुई दिखाई पड़ी। सबसे बड़ी बात तो यह है कि इस पूजा में गांव की ग्राम प्रधान भी सम्मिलित हुई थी । निश्चित रूप से भारी मात्रा में इस तरह से महिलाओं का इकट्ठा होना कहीं ना कहीं कोरोना से फैली महामारी को खत्म करने के बजाय एक दूसरे को बड़ी संख्या में संक्रमित कर सकता है। ऐसे में यह भी एक बड़ा सवाल खड़ा होता है कि सरकार के द्वारा चलाई जा रही जन जागरूकता अभियान कहीं ना कहीं फेल है । जिसके परिणाम स्वरूप आज भी लोग इसे देवी प्रकोप मानकर इस तरह का कार्य करने में लगे हुए हैं। जिसके चलते क्षेत्र एवं समाज बड़े खतरे में दिखाई पड़ रहा है।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More