खबर तह तक

आईपीएस अजयपाल शर्मा और हिमांशु कुमार पर लटकी निलम्बन की तलवार

0

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दो आईपीएस अधिकारी अजयपाल शर्मा और हिमांशु कुमार को कभी भी निलम्बित कर सकते हैं. जानकारी के अनुसार ट्रांसफर पोस्टिंग के नाम पर पैसे के लेन-देन के आरोपों के चलते दोनों अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए विजिलेंस ने शासन को अपनी रिपोर्ट भेजी थी. अब इनको निलम्बित किए जाने की तैयारी की जा चुकी है. जानकारी के अनुसार कार्रवाई का प्रस्ताव तैयार करके सीएम के पास भेजा जा चुका है. इसके साथ ही विजिलेंस की रिपोर्ट के आधार पर दोनों अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की भी तैयारी है.

सीएम योगी के निर्देश पर ट्रांसफर पोस्टिंग के नाम पर भ्रष्टाचार करने वाले दो आईपीएस अफसरों के खिलाफ शुरू कराई गई विजिलेंस विभाग की जांच पूरी हो गई थी. जांच रिपोर्ट शासन को भेजी जा चुकी है. जांच में आईपीएस अफसर अजय पाल शर्मा और हिमांशु कुमार दोषी पाए गए हैं. विजिलेंस विभाग ने अपनी जांच रिपोर्ट मुख्यमंत्री को भेज दी है. अब माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री के स्तर पर कभी भी आगे की निलम्बित किए जाने की कार्रवाई कभी भी हो सकती है.

सतर्कता अधिष्ठान ने आईपीएस अधिकारी अजय पाल शर्मा और हिमांशु कुमार के खिलाफ जांच रिपोर्ट कर शासन को अपनी रिपोर्ट भेज दी थी. विजिलेंस के सूत्रों के अनुसार रिपोर्ट में दोनों आईपीएस अधिकारियों पर लगे आरोपों की गहनता से जांच के बाद शासन को सारे तथ्यों से अवगत कराया गया है. फिलहाल जांच रिपोर्ट गोपनीय होने के कारण विजिलेंस के अधिकारी खुलकर कुछ नहीं बोल रहे हैं. सूत्रों के अनुसार डायरेक्टर विजिलेंस के निर्देशन में तैयार की गई जांच रिपोर्ट में दोनों आईपीएस के खिलाफ लगे तमाम आरोपों में से कई महत्वपूर्ण आरोप सही पाए गए हैं और शासन से नियमों के मुताबिक अनुशासनात्मक कार्रवाई करने की संस्तुति भी की गई है.

मिली जानकारी के अनुसार आईपीएस अजय पाल शर्मा और हिमांशु कुमार के खिलाफ नोएडा के पूर्व एसएसपी वैभव कृष्ण ने अपराधियों से साठ-गांठ करने को भ्रष्टाचार समेत तमाम गंभीर आरोप लगाए थे, जिसके बाद दिसंबर 2019 में एसआईटी की रिपोर्ट मिलने के बाद शासन ने विजिलेंस को इस मामले की जांच सौंपी थी. जांच में कई आरोप सही पाए गए हैं.

सूत्रों के अनुसार आईपीएस अजय पाल शर्मा पर अपराधियों से साठ-गांठ और भ्रष्टाचार के आरोप सही पाए गए हैं, जबकि दूसरे आईपीएस हिमांशु कुमार पर ट्रांसफर पोस्टिंग के नाम पर पैसे लेने की बात सामने आई है. विजिलेंस डिपार्टमेंट ने अपनी पूरी जांच रिपोर्ट शासन को भेज दी है. अब माना जा रहा है कि आगे मुख्यमंत्री के निर्देश पर निलम्बित करने और विभागीय कार्यवाही कभी भी की जा सकती है. इसके साथ ही ऑडियो रिकार्डिंग में अजयपाल शर्मा के वॉइस सैम्पल के मिलान के बाद एफआईआर भी दर्ज कराई जाएगी. इसके साथ ही विजिलेंस विभाग ने अपनी जांच रिपोर्ट में दोनों आईपीएस अधिकारियों की संपत्ति की अलग से जांच आर्थिक अपराध अनुसंधान संगठन से कराए जाने की भी सिफारिश की है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More