खबर तह तक

यूपी में ‘उत्तम पोषण, उत्तर प्रदेश रोशन’ स्लोगन के साथ पोषण माह का होगा शुभारंभ

0
  • पोषण माह के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सीएम योगी ने किया संबोधित
  • ‘उत्तम पोषण, उत्तर प्रदेश रोशन’ स्लोगन के साथ प्रदेश में शुरू होगा पोषण माह
  • पोषण माह के दौरान प्रदेश के करीब आठ लाख बच्चों काे किया जाएगा चिन्हित
  • छह वर्ष तक के बच्चों, गर्भवती महिलाओं के पोषण पर दिया जाएगा विशेष बल

लखनऊ: सीएम योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को पोषण माह के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि यदि कुपोषित परिवार गो पालन के इच्छुक हों, तो उन्हें निराश्रित गोवंश आश्रय स्थलों से गाय उपलब्ध कराई जाए. प्रदेश में पोषण माह सात सितंबर से मनाया जाएगा.

सीएम योगी ने प्रदेश में संचालित मुख्यमंत्री निराश्रित बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना के तहत गायों के भरण-पोषण के लिए प्रति गाय 900 रुपये प्रति माह दिए जाने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि ऐसे परिवारों को अच्छा पोषण उपलब्ध कराने और किचन गार्डन विकसित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाए. इस अवसर पर सीएम योगी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कई जिलों के परिवारों से बात भी की और उनका हाल जाना.

उन्होंने कहा कि कुपोषित व अति कुपोषित बच्चों को चिन्हित करके उन्हें समय से पोषण संबंधी सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाए. बच्चों के साथ कुपोषित मां को भी चिन्हित कर योजनाओं का लाभ दिया जाए. सीएम योगी ने कहा कि कुपोषित परिवारों के बेरोजगार लोगों को राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं के माध्यम से रोजगार उपलब्ध कराया जाए.

सीएम योगी ने कहा कि जिला स्तर पर कार्यक्रम की साप्ताहिक समीक्षा और मंडलायुक्त के स्तर पर साप्ताहिक समीक्षा की जाए. साथ ही विभाग समीक्षा रिपोर्ट मुख्यमंत्री कार्यालय को भी प्रेषित करेगा. विभागीय स्तर और मुख्य सचिव के स्तर पर इसकी माहवार समीक्षा भी की जाए.

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि पूर्वांचल के गोरखपुर व आसपास के जिलों में 40 वर्षों से होने वाले इंसेफेलाइटिस के प्रकोप पर पिछले तीन वर्षों में टीमवर्क से नियंत्रण करने में सफलता मिली है. ऐसे में पोषण माह को सहयोग करने के लिए सभी को एकजुट होकर काम करना होगा. इस कार्यक्रम में सभी संबंधित विभागों जैसे स्वास्थ्य, शिक्षा, ग्रामीण विकास, पंचायती राज, कृषि, उद्यान विभाग को सहयोग करना होगा. पोषण कार्यक्रम के साथ ही टीकाकरण कार्यक्रम को भी समयबद्ध तरीके से आगे बढ़ाया जाए.

वहीं अपर मुख्य सचिव महिला कल्याण एवं बाल विकास एस राधा चौहान ने कहा कि राष्ट्रीय शोक की घोषणा के कारण इस वर्ष राष्ट्रीय पोषण सप्ताह सात सितंबर से प्रारंभ किया जा रहा है. इसे सहभागिता के आधार पर आयोजित किया जाएगा. राष्ट्रीय पोषण माह के दो प्रमुख लक्ष्य हैं- अति कुपोषित बच्चों का पंजीकरण एवं प्रबंधन और पोषण वाटिका, उनकी स्थापना एवं विकास. पोषण माह के दौरान करीब आठ लाख बच्चों काे चिन्हित किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि पोषण माह के दौरान छह वर्ष तक के बच्चों, गर्भवती महिलाओं, किशोरी बालिकाओं के पोषण पर विशेष बल दिया जाएगा. राष्ट्रीय पोषण माह का यह तीसरा वर्ष है. कोविड के दौर में ई-डिजिटल आंदोलन के रूप में मनाया जाना है. इसमें सोशल मीडिया, मास मीडिया, प्रिंट मीडिया, आउटडोर मीडिया, वर्चुअल मीटिंग का प्रयोग किया जाएगा.

इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह, मुख्य सचिव आरके तिवारी, अपर मुख्य सचिव राजस्व रेणुका कुमार, अपर मुख्य सचिव पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास मनोज कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद, अपर मुख्य सचिव कृषि देवेश चतुर्वेदी, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव समेत अन्य अधिकारी मौजूद रहे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More