खबर तह तक

लखनऊ: पुलिस ने राजस्व व एलडीए से मांगे दस्तावेज, मुख्तार के बेटों पर हो सकती है कार्रवाई

लखनऊ: बाहुबली मुख्तार अंसारी की मुसीबतें बढ़ती हुई नजर आ रही हैं. लखनऊ में निष्क्रान्त भूमि पर कब्जे को लेकर मुख्तार अंसारी के बड़े बेटे अब्बास अंसारी व उमर अंसारी के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए हजरतगंज पुलिस ने राजस्व व एलडीए से दर्ज कराई गई एफआईआर के संदर्भ में दस्तावेज मांगे हैं. डीसीपी सेंट्रल सोमेन वर्मा का कहना है कि जिला प्रशासन की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर के बाद हम लगाए गए आरोपों के आधार पर सबूत जुटा रहे हैं. जिसके लिए राजस्व व एलडीए से दस्तावेज मांगे गए हैं. सबूत मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी. अगर अब्बास व उमर के खिलाफ दस्तावेजों में हेरफेर करने व धोखाधड़ी करने के सबूत मिलते हैं, तो पुलिस अब्बास व उमर को गिरफ्तार करेगी.

गुरुवार को जिला प्रशासन व एलडीए की टीम ने बाहुबली मुख्तार अंसारी के बेटों के नाम दर्ज निष्क्रान्त भूमि से कब्जा हटाते हुए अवैध बिल्डिंग के गिराने की कार्रवाई की. इसके बाद जिला प्रशासन की ओर से मुख्तार अंसारी, अब्बास अंसारी, उमर अंसारी के खिलाफ हजरतगंज थाने में एफआईआर दर्ज की गई है. यह एफआईआर लेखपाल जियामऊ सुरजन लाल की तहरीर पर दर्ज की गई है. एफआईआर में मुख्तार अंसारी व उनके दोनों बेटे अब्बास व उमर को धोखाधड़ी, जालसाजी, फर्जी दस्तावेज तैयार करने का आरोपी बनाया गया है.

इससे पहले मुख्तार अंसारी पर की गई यह कार्रवाई

शासन के निर्देशों पर मुख्तार अंसारी गैंग के खिलाफ लगातार कार्रवाई की जा रही है. अब तक की गई कार्रवाईयों की बात करें तो मुख्तार अंसारी गैंग के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के अंतर्गत 66 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की गई है. गैंग के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 41 करोड़ रुपए की अवैध आय पर लगाम लगाई गई है. गैंग के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 97 गिरफ्तारियां की गई है. गैंगस्टर एक्ट के तहत 75 गिरफ्तारियां की गई है. 75 शस्त्र लाइसेंस निरस्त कराए गए हैं.

सात सहयोगी ठेकेदार जो पीडब्ल्यूडी व कोयले के ठेके का काम करते थे, उनके खिलाफ भी कार्रवाई की गई है. गुंडा एक्ट के तहत 12 लोगों के खिलाफ जिला बदर की कार्रवाई की गई है. शासन के निर्देशों पर मुख्तार अंसारी गैंग के द्वारा संचालित अवैध स्लॉटर हाउस, अवैध वसूली, अवैध मछली कारोबार, सरकारी जमीनों पर कब्जा, शस्त्र निरस्त्रीकरण, शूटर बार रंगदारी, सहयोगी ठेकेदारों, कोयला माफियाओं के विरुद्ध कार्रवाई की गई है.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More