खबर तह तक

योगी सरकार कार्यालय पर ताला लगवा सकती है, जुबान पर नहीं: संजय सिंह

0

लखनऊः आम आदमी पार्टी नेता और राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा. प्रदेश सरकार पर आरोप लगाते हुए संजय सिंह ने कहा कि लखनऊ स्थित उनके पार्टी (आम आदमी पार्टी) कार्यालय पर जबरदस्ती ताला लगवाया गया है.

आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रभारी और राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने रविवार को सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि योगी जी के कहने पर ही लखनऊ पुलिस ने उनके पार्टी कार्यालय पर ताला जड़ा है. संजय सिंह ने कहा कि योगी सरकार को चुनौती देते कहा कि सीएम कार्यालय पर ताला लगवा सकते हैं, लेकिन उनकी जुबान पर ताला नहीं लगवा सकते.

वहीं, उन्होंने प्रदेश सरकार पर निशाना साधते कहा कि सीएम योगी आपके जुल्म और ज्यादती के खिलाफ पहले भी बोलता रहा हूं और आगे भी बोलता रहूंगा. उन्होंने सीएम योगी को चुनौती देते कहा कि योगी जी बचकाना खेल बंद करो. मैं अभी लखनऊ में हूं आप किसी समय भी गिरफ्तार करवा सकते हो.

आम आदमी पार्टी प्रदेश प्रभारी संजय सिंह ने सीएम योगी पर निशाना साधते कहा कि उन्होंने प्रदेश में कानून व्यवस्था की धज्जियां उड़ा रखी है. प्रदेश में लोग अपने आप को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि वे उच्च सदन (राज्यसभा) के सदस्य हैं. उनके खिलाफ सीएम योगी ने प्रदेश के अलग-अलग जिलों में मुकदमे दर्ज करवाएं हैं.

संजय सिंह ने सीएम योगी को चुनौती देते कहा कि प्रदेश में 75 जिले और 1700 थाने हैं. हर थाने में सीएम मेरे खिलाफ एफआईआर दर्ज करवा सकते हैं. संजय सिंह ने कहा कि वह अत्याचार के खिलाफ हमेशा आवाज उठाते रहेंगे.

योगी सरकार पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि आप से अपराध रुकता नहीं, हत्या की घटनाएं थम नहीं रही. बलात्कार हर दिन हो रहे हैं.आप विपक्ष की आवाज दबाना चाहते हैं. योगी जी आप तानाशाही और डंडे से उत्तर प्रदेश को चला रहे हैं, जो कि ज्यादा दिन तक नहीं चलेगी.

राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने कहा कि सूबे के मुखिया सिर्फ रामराज्य की बातें करते हैं. वे काम नहीं करते. उन्होंने कहा कि अन्य जातियों में उपेक्षा का भाव लगातार बढ़ रहा है. सिर्फ और सिर्फ एक जाति विशेष के लिए योगी जी काम कर रहे हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More