खबर तह तक

कई बार अपनी वकालत से चर्चा का विषय बने राम जेठमलानी, जानिए इनके बारे में सब कुछ

0

धारा के विपरीत चलने वाले राम जेठमलानी को अपनी काबिलियत पर बहुत भरोसा था. इसलिए वह उन मामलों में भी पैरवी के लिए आगे आए जिन्हें देश के जनमानस के खिलाफ माना जाता था. लेकिन उनका मानना था कि सत्य के लिए खड़ा होना चाहिए. यही वजह थी वह इंदिरा गांधी की हत्या के आरोपियों से लेकर संसद हमले के दोषी अफजल गुरु तक की पैरवी की.

Ram jethmalani

जेठमलानी ने कई हाई प्रोफाइल क्रिमिनल मुकदमों को लड़ा था और कई में जीत हासिल की. बेबाक बयानबाजी और तेज-तर्रार व्यक्तित्व के साथ-साथ सुर्खियों में रहने वाले और ‘मोस्ट वांटेड’ क्रिमिनल लॉयर राम जेठमलानी जेसिका लाल से अफजल तक, कई बार अपनी वकालत से चर्चा में रहे.

अपनी आलोचना करने वालों से वह कहते थे कि अगर कोई उनके पास केस लेकर आता तो यह उनकी पेशेवर जिम्मेदारी है जैसे डॉक्टर किसी को इलाज से नहीं मना कर सकता है फिर चाहे वह मरीज चाहे कैसा भी हो.

इसी पेशेवर जिम्मेदारी के चलते संसद पर हमले में फांसी की सजा पा चुके अफजल गुरु का केस भी राम जेठमलानी ने लड़ा था जिस पर उनकी खूब आलोचना हुई थी. केस लड़ते हुए उन्होंने सरकार पर यह भी आरोप लगाया था कि सरकार अफजल गुरु को वकील नहीं मुहैया करा रही है. इसी तरह जेसिका लाल मर्डर केस में वह मनु शर्मा की तरफ से कोर्ट में पेश हुए थे.

उनकी वकालत का इतिहास देखें तो जेठमलानी का पहला केस 1959 में प्रसिद्ध के.एम नानावती बनाम महाराष्ट्र सरकार का मामला था. इसमें इन्होंने यशवंत विष्णु चंद्रचूड़ के साथ केस लड़ा था. चंद्रचूड़ बाद में भारत के चीफ जस्टिस भी बने. इस केस के बाद जेठमलानी सुर्खियों में आ गए थे. इसके बाद 60 के दशक में जेठमलानी ने कई स्मगलरों का केस लड़ा जिसकी वजह से उन्हें ‘स्मलगरों का वकील’ कहा जाने लगा.

मोदी सरकार के 100 दिन पूरे होने पर प्रियंका बोलीं-अर्थव्यवस्था को हिलाने के बाद सरकार ने मौन धारण किया

इन मामलों से आए सुर्खियों में

वर्ष 1959 में ही नानावती केस में जेठमलानी ने अपनी पहचान बना ली थी. इसके बाद से वह क्रिमिनल केस लड़ने वाले दिग्गज चेहरा बन गए. जेठमलानी के हाई प्रोफाइल मामलों में इंदिरा गांधी हत्या, हर्षद मेहता स्टॉक घोटला, केतन पारेख, लालकृष्ण आडवाणी हवाला, जयललिता की अघोषित संपत्ति, टूजी में कनिमोझी का बचाव, जेसिका लाल मर्डर में मनु शर्मा का बचाव, चारा घोटाला में लालू प्रसाद यादव, खनन घोटाला में येदियुरप्पा का केस, संसद पर हमले में अफजल गुरु का केस, सहारा सेबी केस में सुब्रतो रॉय का बचाव और रामलीला मैदान मामले में बाबा रामदेव का बचाव महत्वपूर्ण हैं.

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के हत्यारों सतवंत सिंह और केहर सिंह के वकील के तौर पर पेश हुए थे. यही नहीं टी डी डोगरा द्वारा दिए गए मेडिकल प्रमाणों को भी उन्होंने चैलेंज किया था.

जेठमलानी वकालत में ‘मोस्ट वांटेड’ कहे गए. वैसे तो राम जेठमलानी का दावा था कि 90 फीसदी केस उन्होंने ‘प्रो बोनो’ मतलब बिना फीस लिए लड़ा है. हालांकि अपने अमीर मुवक्किलों से वह लाखों में फीस वसूलते थे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Translate »