धर्म-आस्था

मां काली मंदिर में तीन बार बदलती हैं रूप, हैरान कर देने वाले रहस्य से उठा पर्दा

भारत में ऐसे कई रहस्यमय और प्राचीन मंदिर है. जिनके पीछे कई रहस्य छुपे हुए है. एक ऐसा ही मंदिर उत्तराखंड के श्रीनगर से करीब 14 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जहां हर दिन एक चमत्कार होता है, जिसे देखकर लोग हैरान हो जाते हैं. जी हां, दरअसल इस मंदिर में मौजूद माता की मूर्ति दिन में तीन बार अपना रूप बदलती है. मूर्ति सुबह में एक कन्या की तरह नजर आती है, फिर दोपहर में युवती और शाम को एक बूढ़ी महिला की तरह दिखती है. यह नजारा वाकई हैरान कर देने वाला होता है. इस मंदिर को धारी देवी मंदिर के नाम से जाना जाता है. यह मंदिर झील के ठीक बीचों-बीच स्थित है. देवी काली को समर्पित इस मंदिर के बारे में मान्यता है कि यहां मौजूद मां धारी उत्तराखंड के चारधाम की रक्षा करती हैं. इस माता को पहाड़ों और तीर्थयात्रियों की रक्षक देवी माना जाता है.

बता दें की एक पौराणिक कथा के मुताबिक, एक बार भीषण बाढ़ से मंदिर बह गया था. साथ ही साथ उसमें मौजूद माता की मूर्ति भी बह गई और वह धारो गांव के पास एक चट्टान से टकराकर रुक गई. ये भी कहते हैं कि उस मूर्ति से एक ईश्वरीय आवाज निकली, जिसने गांव वालों को उस जगह पर मूर्ति स्थापित करने का निर्देश दे दिया. इसके बाद गांव वालों ने मिलकर वहां माता का मंदिर बना दिया. पुजारियों की मानें तो मंदिर में मां धारी की प्रतिमा द्वापर युग से ही स्थापित है.

पूर्वांचल में 10 और कोरोना पॉजिटिव मिले

ये भी कहते हैं कि मां धारी के मंदिर को साल 2013 में तोड़ दिया गया था और उनकी मूर्ति को उनके मूल स्थान से हटा दिया गया था, इसी कारण से उस साल उत्तराखंड में भयानक बाढ़ आई थी, जिसमें हजारों लोग मारे गए थे. माना जाता है कि धारा देवी की प्रतिमा को 16 जून 2013 की शाम को हटाया गया था और उसके कुछ ही घंटों बाद राज्य में आपदा आई थी. बाद में उसी जगह पर फिर से मंदिर का निर्माण कराया गया.

Saloni Bhatt

सलोनी भल्ला पत्रकारिता में पिछले चार साल से एक्टिव हैं। यहां से पहले अमर उजाला में कार्यरत थीं। "खबरी अड्डा" के बाद साथ-साथ लाइव टुडे में भी कार्यरत हैं। वॉयस ओवर आर्टिस्ट, कंटेंट राइटिंग, कंटेंट एडिटिंग और एंकरिंग में एक्सपीरियंस है। लेखन में पॉलीटिकल, क्राइम, एंटरटेनमेंट, ब्यूटी और हेल्थ के साथ-साथ गली मोहल्लों  की खबरों से लेकर सोशल मीडिया तक की चहल-पहल पर अपनी पैनी नजर रखती हैं।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button