खबर तह तक

लखीमपुर खीरी में किशोरी की हत्या पर विपक्षी दलों की तीखी प्रतिक्रिया

0

लखीमपुर खीरी: जिले में दलित किशोरी की दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले में विपक्षी दलों ने योगी सरकार को घेरा है. बसपा प्रमुख मायावती ने ट्वीट कर कहा कि प्रदेश में लगातार दलितों और महिलाओं पर हमले हो रहे हैं, उनकी हत्याएं हो रही हैं. ऐसे में सपा और भाजपा में क्या अंतर रह गया है?

वहीं सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी ट्वीट कर योगी सरकार पर सवाल खड़े किये हैं. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि उप्र के लखीमपुर खीरी में एक बेबस किशोरी से दुष्कर्म के बाद निर्मम हत्या इंसानियत को झकझोर देने वाली घटना है. भाजपाकाल में उप्र की बच्चियों व नारियों का उत्पीड़न चरम पर है. बलात्कार, अपहरण, अपराध व हत्याओं के मामले में भाजपा सरकार प्रश्रयकारी क्यों बन रही है?

दो आरोपी गिरफ्तार
लखीमपुर खीरी जिले में शुक्रवार की देर रात एक मासूम की हत्या का मामला सामने आया था. आरोपी मासूम की हत्या के बाद उसका शव गन्ने के खेत के पास फेंककर फरार हो गए थे. बताया जा रहा है कि मासूम की दोनों आंखें और जीभ किसी नुकीले औजार से छेद दिए गए थे. यही नहीं उसके दुप्पटे से बच्ची का गला घोंटा गया था. पुलिस ने मामले में दो नामजद आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

बसपा सुप्रीमों ने घटना को बताया शर्मनाक
मायावती ने सरकार पर उठाते हुए घटना को शर्मनाक बताया है. मायावती ने कहा कि ऐसी घटनाओं से सपा व वर्तमान भाजपा सरकार में फिर क्या अंतर रहा. मायावती ने लिखा कि सरकार खीरी के दोषियों के विरूद्ध भी सख्त कार्रवाई करे. मायावती ने ट्वीट में आगे लिखा कि दलितों पर इस प्रकार की हो रही जुल्म-ज्यादती व हत्या आदि से पूर्व की सपा व बीजेपी की वर्तमान सरकार में फिर क्या अंतर है?

कांग्रेस का भाजपा सरकार पर हमला
लखीमपुर में नाबालिक बच्ची के साथ हुए दुष्कर्म और हत्या की घटना को लेकर कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी और प्रदेश की योगी सरकार पर करारा हमला बोला है. कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि भाजपा और सरकार में बैठे लोगों की शह पर ही इस तरह की घटनाएं बार-बार हो रही हैं.

कांग्रेस नेता अंशु दीक्षित ने लखीमपुर में मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म और हत्या की घटना पर एक बयान जारी कर कहा कि जिस तरह से उत्तर प्रदेश में महिलाओं के साथ आपराधिक घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं. ऐसी सभी घटनाओं के सामने आने के बाद जो पुलिस का रवैया है वह भी हमेशा स्त्री मर्यादा के विरोध में दिखाई दिया है.

इससे यह आसानी से समझा जा सकता है कि भारतीय जनता पार्टी और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की मंशा क्या है. सरकार की मंशा को जाने बगैर पुलिस इस तरह का व्यवहार नहीं करेगी. उन्होंने कहा कि सरकार में बैठे प्रभावशाली लोग और भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की शह पर ही इस तरह की अपराधिक घटनाएं हो रही हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More