खबर तह तक

‘राम मंदिर भूमिपूजन में राष्ट्रपति को ले जाते तो अच्छा होता’: मायावती

0

लखनऊ: बसपा प्रमुख मायावती ने ट्विटर के जरिए समाजवादी पार्टी पर हमला किया है. उन्होंने कहा कि यदि समाजवादी सरकार को परशुराम की प्रतिमा लगानी ही थी तो अपने शासन काल के दौरान ही लगा देते. बसपा किसी भी मामले में सपा की तरह कहती नहीं, कर के भी दिखाती है. बसपा की सरकार बनने पर सपा की तुलना में परशुराम जी की भव्य मूर्ति लगाई जाएगी.

मायावती ने कहा कि कोरोना के मद्देनजर राज्य/केंद्र सरकार की कमियों को ध्यान में रखते हुए यूपी में बीएसपी की सरकार बनने पर ब्राम्हण समाज की आस्था के प्रतीक परशुराम और सभी जातियों, धर्मों में जन्मे महान संतों के नाम पर अस्पताल व सुविधा युक्त ठहरने के स्थानों का निर्माण किया जाएगा.

बसपा प्रमुख ने कहा कि पांच अगस्त को जब पीएम मोदी ने राम मंदिर का शिलान्यास किया तो अच्छा होता अगर वो उस समय दलित समाज से जुड़े अपने राष्ट्रपति को भी साथ में ले जाते. कुछ दलित संत भी चिल्लाते रहे कि हमें नहीं बुलाया गया. उनको नहीं बुलाया पर राष्ट्रपति को बुला लेते तो अच्छा संदेश जाता.

उन्होंने कहा कि चार बार बनी BSP सरकार ने सभी वर्गों के महान संतों के नाम पर अनेक जनहित योजनाएं शुरू की थीं और जिलों के नाम रखे थे, जिसे बाद में आई सपा सरकार ने जातिवादी मानसिकता और द्वेष की भावना के चलते बदल दिया था. बसपा की सरकार बनते ही इन्हें फिर से बहाल किया जाएगा.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More