खबर तह तक

रविवार को लगने वाले सूर्यग्रहण के बारे में जाने यह सुझाव, ग्रहण में क्या करें क्या न करें

रविवार को लगने वाले सूर्यग्रहण के बारे में जाने यह सुझाव, ग्रहण में क्या करें क्या न करें21 जून को लगने वाले सूर्यग्रहण के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियां खबरी अड्डा से साझा कर रहे हैं

– आचार्य अंशुल त्रिपाठी (ज्योतिर्विद)

21 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण भारत में अधिकतर स्थानों पर खण्ड सूर्य ग्रहण के रूप में दिखाई देगा। जिसका ज्योतिषी आधार पर भी विशेष महत्व है। सूर्य ग्रहण का सूतक काल 12 घंटे पूर्व ही लग जाता है वहीं पर चंद्र ग्रहण का सूतक काल 9 घंटे पूर्व लगता है ।किसी भी सूर्यग्रहण के मध्य कोई भी पूजा पाठ ,दान ,मंत्र जाप एवं धार्मिक क्रियाएं विशेष फलदाई होती हैं वही तमाम शुभ कार्य एवं क्षौल क्रिया निषिद्ध होतीं हैं। गर्भवती स्त्रियों को किसी भी ग्रहण में विशेष बचाव करना चाहिए।

काशी के अनुसार सूर्य ग्रहण

स्पर्श दिन में 10:31 मिनट।
मध्य – 12:18मिनट।
मोक्ष-02:04 मिनट।

यह सूर्य ग्रहण मिथुन राशि पर लगेगा। जिस कारण से मिथुन राशि और उसके आसपास वृष और कर्क राशि के साथ-साथ मिथुन से सातवीं राशि धनु विशेष प्रभावित होगी।

मेष राशि- मेष राशि के लिए यह ग्रहण शुभ है। मेष राशि के जातकों को लक्ष्मी की प्राप्ति होगी। यह जातक ग्रहण में हनुमान जी का मंत्र जाप करें तो इनके लिए विशेष फलदाई होगा।

वृष राशि- वृष राशि के लिए यह ग्रहण कष्टदायक होगा। इन लोगों को विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करना चाहिए। और अन्न का दान करना चाहिए।

मिथुन राशि- मिथुन राशि पर यह ग्रहण लग रहा है अतः इनके लिए यह ग्रहण घातक रहेगा। यह जातक महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें।

कर्क राशि- कर्क राशि के लिए यह ग्रहण हानिकारक रहेगा। इस राशि के जातकों को अमृत संजीवनी मंत्र का जाप करना चाहिए।

सिंह राशि- सिंह राशि के लिए यह ग्रहण लाभदायक रहेगा। इस राशि के जातक विशेष फल को प्राप्त करने के लिए सूर्य के मंत्र का जाप करें।

कन्या राशि- कन्या राशि के लिए यह ग्रहण सुखदायक रहेगा। इस राशि के जातक अच्छे फल की प्राप्ति के लिए गणेश जी के अथर्वशीर्ष का पाठ करें।

तुला राशि- तुला राशि के लिए यह ग्रहण सम्मान का नाशक रहेगा। अतः इस राशि के जातक भगवान श्री कृष्ण के मंत्र का जाप करें।

वृश्चिक राशि- वृश्चिक राशि के लिए यह ग्रहण मृत्यु तुल्य कष्ट को देने वाला रहेगा। अतः इन जातकों के लिए महामृत्युंजय मंत्र का जाप विशेष फलदाई रहेगा।

धनु राशि- धनु राशि के लिए यह ग्रहण स्त्री को लेकर पीड़ादायक रहेगा।अतःइस राशि के जातकों को विष्णु जी के मंत्र का जाप करना चाहिए

मकर राशि- मकर राशि के लिए यह ग्रहण सुखदायक रहेगा। इस राशि के जातकों के लिए शनिदेव का मंत्र विशेष प्रभाव दायक रहेगा।

कुंभ राशि- कुंभ राशि के लिए यह ग्रहण चिंताजनक रहेगा। अतः इस राशि के जातकों को चिंता के निवारण के लिए हनुमान जी की विशेष पूजा करनी चाहिए।

मीन राशि- मीन राशि के लिए यह ग्रहण व्यथा कारक रहेगा । अतः इस राशि के जातक भगवान विष्णु की विशेष उपासना करें।

नोट- ग्रहण का फल कुंडली के अनुसार प्राप्त होता है यदि आपकी कुंडली कमजोर होगी तो आपको विशेष नुकसान होगा। वहीं यदि कुंडली में ग्रह की स्थिति अच्छी होगी तो आपके लिए विशेष फलदाई होगा।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More