उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरलखनऊ

लखनऊ पीजीआई का कोरोना जांच किट विकसित करने का दावा, जांच रिपोर्ट 30 मिनट में मिलेगी

लखनऊ। लखनऊ पीजीआई ने कोरोना वायरस की जांच के लिए एक किट विकसित करने का दावा किया है। इस किट से महज 30 मिनट में वायरस की जांच सम्भव होगी। इस पर खर्च करीब 500 रुपया आएगा। पीजीआई के मालीक्यूलर मेडिसिन एंड बायोटेक्नोलोजी विभाग ने किट के पेटेंट के लिए आवेदन किया है।

मॉलीक्यूलर मेडिसिन एंड बायोटेक्नोलोजी विभाग की प्रमुख डॉ. स्वास्ति तिवारी के मुताबिक कोरोना की जांच काफी मंहगी है। जांच में काफी वक्त लग रहा है। रैपिड से जांच रिपोर्ट जल्द आए। खर्च में भी कमी आएगी। उन्होंने बताया कि वैज्ञानिकों ने जांच तकनीक का परीक्षण सिंथेटिक कोरोना आरएनए (राइबो न्यूक्लिक एसिड) पर किया। जिसमें वह सफल रही है। सीधे मरीज के नमूने के पर जांच नहीं किया जाता है। यह जांच तकनीक भी आरएनए आधारित ही है। मरीज के नमूने से आरएनए निकाल कर उसमें ही संक्रमण देखा जाएगा।

हालांकि उन्होंने पेटेंट के लिए आवेदन किए जाने की वजह से किट के तकनीकी पहलुओं का खुलासा करने से इंकार कर दिया। पेटेंट के बाद किट की वैधता की जांच के लिए इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) को अनुमोदन के लिए भेजा जाएगा। अनुमोदन मिलने के बाद कंपनियां किट का निर्माण करेंगी। इसके लिए कई कंपनियां भी संपर्क में हैं।

यह हैं टीम में

डॉ. स्वाति तिवारी ने बताया कि किट विकसित करने वाली टीम में डॉ. रजनी शर्मा, डॉ. सुमन मिश्रा और डॉ. विनोद शामिल हैं।

इसकी रिपोर्ट सटीक होगी

अभी तक विदेश से आयातित किट पर जांच चल रही है जिसमें चार से पांच हजार का खर्च आता है। इस जांच में पीसीआर तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है। पीजीआई ने विकसित इस किट में पीसीआर तकनीक का इस्तेमाल नहीं होगा। जिसके कारण जांच रिपोर्ट जल्दी मिलेगी। संक्रमण का पता लगाने के लिए मरीज के गले और नाक से स्वाब लिया जाता है। स्वाब सेल से आरएनए कालम तकनीक से निकालते है। यह 15 मिनट में निकल जाता है।  इसी आरएनए से संक्रमण की पुष्टि करेंगे। इसकी जांच रिपोर्ट मौजूदा जांच के मुकाबले ज्यादा सटीक होगी।

Saurabh Bhatt

सौरभ भट्ट पिछले दस सालों से मीडिया से जुड़े हैं। यहां से पहले टेलीग्राफ में कार्यरत थे। इन्हें कई छोटे-बड़े न्यूज़ पेपर, न्यूज़ चैनल और वेब पोर्टल में रिपोर्टिंग और डेस्क पर काम करने का अनुभव है। इनकी हिन्दी और अंग्रेज़ी भाषा पर अच्छी पकड़ है। साथ ही पॉलिटिकल मुद्दों, प्रशासन और क्राइम की खबरों की अच्छी समझ रखते हैं।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button