उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरलखनऊ

यूपी सरकार ने कुछ बदलाव के साथ जारी की नयी गाइडलाइंस

  • गैर जिला प्रशासन की सहमित से नहीं खुल सकेंगे धार्मिक स्थल, शॉपिंग मॉल्स व अन्य सार्वजनिक स्थल
  • पूजा स्‍थल में एक स्‍थान पर नहीं एकत्र होंगे से अधिक श्रद्धालु, इंफ्रारेड थर्मामीटर की करनी होगी व्यवस्था

लखनऊ। यूपी सरकार ने 8 जून को लेकर एक बार फिर नयी गाइडलाइंस जारी कर दी हैं। इसकरे मुताबिक अब मंदिरों, शॉपिंग मॉल्स और अन्य सार्वजनिक व धार्मिक स्‍थलों को खोलने से पहले जिला प्रशासन की अनुमति लेना जरूरी होगा। इसके अलावा कार्यालयों व अन्य सार्वजनिक स्‍थानों को लेकर भी कई नए बदलाव किए गए हैं। बता दें कि इससे पहले उत्तर प्रदेश सरकार ने 31 मई को गाइडलाइंस जारी की थीं। इसमें 8 जून से मंदिरों व शॉपिंग मॉल्स को खोलने की जिक्र किया गया था।

मुख्‍य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी द्वारा जारी किए गए आदेश में कहा गया है कि धार्मिक स्‍थलों को खोलने के बाबत प्रशासन और पुलिस से आदेश मिलने के बाद भी कुछ नियमों का पालन करना होगा। इन नियमों के तहत, किसी भी धार्मिक या पूजा स्‍थल में एक स्‍थान पर 5 से अधिक श्रद्धालुओं के एकत्रित होने पर मनाही होगी। इसके अलावा, प्रवेश द्वार पर हाथों एल्‍कोहल युक्‍त सैनिटाइजर से साफ करना होगा और धार्मिक स्‍थल आने वाले श्रद्धालुओं के शरीर का तापमान नापने के लिए इंफ्रारेड थर्मामीटर की भी व्‍यवस्‍था करना होगी।

अपर मुख्य सचिव (गृह एवं सूचना) अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि धर्मस्थलों, कार्यालयों, मॉल, होटल और रेस्तरां में जाने वाले सभी लोगों के लिए चेहरा ढंकना और मास्क पहनना अनिवार्य होगा और मेन्यू कार्ड भी डिस्पोजल होगा। हर व्यक्ति सार्वजनिक स्थल पर छह फीट की दूरी बनाकर रखेगा। इसके अलावा होटल या रेस्टोरेन्ट में भीड़ वाले कार्यक्रम आयोजित नहीं हो सकेंगे। गाइडलाइन के मुताबिक फूड कोर्ट या रेस्टोरेन्ट में 50 फीसदी क्षमता में ही ग्राहक बैठाए जा सकते हैं।

Saurabh Bhatt

सौरभ भट्ट पिछले दस सालों से मीडिया से जुड़े हैं। यहां से पहले टेलीग्राफ में कार्यरत थे। इन्हें कई छोटे-बड़े न्यूज़ पेपर, न्यूज़ चैनल और वेब पोर्टल में रिपोर्टिंग और डेस्क पर काम करने का अनुभव है। इनकी हिन्दी और अंग्रेज़ी भाषा पर अच्छी पकड़ है। साथ ही पॉलिटिकल मुद्दों, प्रशासन और क्राइम की खबरों की अच्छी समझ रखते हैं।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button