उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरलखनऊ

यूपी में 95 नए कोरोना पॉजिटिव केस, अब तक 4353 मरीज

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अब तक 414 प्रवासी श्रमिकों कोरोना वायरस के लक्षण पाए गए हैं।  उन सबकी टेस्टिंग की जा रही है। प्रदेश में आशा बहुओं की सर्विलांस टीम ने जिस घर के दरवाजे पर प्रवासी श्रमिक का  फ्लायर लगा है, वहां पहुंची हैं। इस तरह आशा बहुओं ने 3 लाख 52 हजार से ज्यादा प्रवासी श्रमिकों की जांच की है। उनमें ये केस पाए गए हैं। रविवार को 95 नए मामले कोरोना संक्रमित मरीजों के सामने आए हैं। अब तक प्रदेश मे 4353 मामले कोरोना पॉजिटिव के हो चुके हैं।

यह जानकारी देते हुए चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने रविवार को अपर मुख्य सचिव गृह व सूचना अवनीश अवस्थी के साथ एक प्रेस कांफ्रेंस में दी। श्री प्रसाद ने बताया कि बाहर से घर आ रहे प्रवासी श्रमिकों में बड़ी तादाद में कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जा रहे हैं। इसीलिए प्रदेश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ी है।

इन प्रवासी श्रमिकों को घर जाने से पहले आश्रय स्थल पर लाया जाता है। वहां उनकी थर्मल स्क्रीनिंग होती है। रैन्डम चेकिंग के लिए पूल टेस्ट का सहारा लिया जाता है। सभी पूलों की जांच की जाती है। उनमें एक भी केस पॉजिटिव पाया जाता है तो उस पूरे पूल को अलग कर एक-एक केस की जांच की जाती है। जिन प्रवासी श्रमिकों में लक्षण नहीं पाए जाते हैं, उन्हें 21 दिन के होम क्वारंटाइन में भेज दिया जाता है। उन पर निगरानी करने की जिम्मेदारी गांव और मोहल्ला निगरानी समिति पर होती है।

साढ़े 78 हजार सर्विलांस टीमें हॉट स्पॉट के कंटेनमेंट के इलाके के 3 करोड़ 19 लाख से अधिक लोगों के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ले चुकी हैं। प्रदेश के संक्रामक रोग विभाग के कंट्रोल रूम फोन नम्बर (18001805145) पर 11 हजार फोन आ चुके हैं। प्रमुख सचिव ने लोगों से कहा कि उनमें तनिक भी कोरोना वायरस के  लक्षण नजर आएं तो वे इस फोन नम्बर पर बात कर तुरंत सहायता लें।

कोरोना वायरस के लक्षण पाए गए हैं। उन सबकी टेस्टिंग की जा रही है। प्रदेश में आशा बहुओं की सर्विलांस टीम ने जिस घर के दरवाजे पर प्रवासी श्रमिक का  फ्लायर लगा है, वहां पहुंची हैं। इस तरह आशा बहुओं ने 3 लाख 52 हजार से ज्यादा प्रवासी श्रमिकों की जांच की है। उनमें ये केस पाए गए हैं। रविवार को 95 नए मामले कोरोना संक्रमित मरीजों के सामने आए हैं। अब तक प्रदेश मे 4353 मामले कोरोना पॉजिटिव के हो चुके हैं।

यह जानकारी देते हुए चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने रविवार को अपर मुख्य सचिव गृह व सूचना अवनीश अवस्थी के साथ एक प्रेस कांफ्रेंस में दी। श्री प्रसाद ने बताया कि बाहर से घर आ रहे प्रवासी श्रमिकों में बड़ी तादाद में कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जा रहे हैं। इसीलिए प्रदेश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ी है।

इन प्रवासी श्रमिकों को घर जाने से पहले आश्रय स्थल पर लाया जाता है। वहां उनकी थर्मल स्क्रीनिंग होती है। रैन्डम चेकिंग के लिए पूल टेस्ट का सहारा लिया जाता है। सभी पूलों की जांच की जाती है। उनमें एक भी केस पॉजिटिव पाया जाता है तो उस पूरे पूल को अलग कर एक-एक केस की जांच की जाती है। जिन प्रवासी श्रमिकों में लक्षण नहीं पाए जाते हैं, उन्हें 21 दिन के होम क्वारंटाइन में भेज दिया जाता है।

उन पर निगरानी करने की जिम्मेदारी गांव और मोहल्ला निगरानी समिति पर होती है। साढ़े 78 हजार सर्विलांस टीमें हॉट स्पॉट के कंटेनमेंट के इलाके के 3 करोड़ 19 लाख से अधिक लोगों के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ले चुकी हैं। प्रदेश के संक्रामक रोग विभाग के कंट्रोल रूम फोन नम्बर (18001805145) पर 11 हजार फोन आ चुके हैं। प्रमुख सचिव ने लोगों से कहा कि उनमें तनिक भी कोरोना वायरस के  लक्षण नजर आएं तो वे इस फोन नम्बर पर बात कर तुरंत सहायता लें।

Ramanuj Bhatt

रामअनुज भट्ट तकरीबन 15 सालों से पत्रकारिता में हैं। इस दौरान आपने दैनिक जागरण, जनसंदेश, अमर उजाला, श्री न्यूज़, चैनल वन, रिपोर्टर 24X7 न्यूज़, लाइव टुडे जैसे सरीखे संस्थानों में छोटी-बड़ी जिम्मेदारियों के साथ ख़बरों को समझने/ कहने का सलीका सीखा।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button