उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरहरदोई

पिहानी ब्लाक के नरधिरा गांव में विकास कार्यों की जाँच करने आए अधिकारी लौटे बैरंग

पिहानी/हरदोई। विकासखंड पिहानी के अंतर्गत ग्रामसभा नरधिरा में ग्राम पंचायत अधिकारी अनुज कुमार गुप्ता व ग्राम प्रधान संगीता एवं प्रधान पति पुष्पेन्द्र राठौर की मिलीभगत से ग्राम विकास कार्यों में अनियमितता बरतकर कर विकास के लिए आए सरकारी धन में बंदरबांट की शिकायत गांव के ही एक युवक ने की थी। जिस पर संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी हरदोई पुलकित खरे ने डीएचओ हरदोई सुरेश कुमार व एक अन्य अधिकारी को जांच के लिए नियुक्त कर नरधिरा गांव भेजा। जहां 8 जून को जांच के लिए पहुंचे दोनों अधिकारी गांव के ही प्राथमिक विद्यालय में जा कर बैठ गए और उन्होंनेशिकायतकर्ता को सुनने के लिए अकेले ही बुलाया।

जब शिकायतकर्ता व उस के पारिवारिक सदस्य एवं परेशान हाल ग्रामीण अपनी समस्या व विकास कार्यों में हुई धांधली की शिकायत करने की नियत से अधिकारियों के समक्ष प्रस्तुत हुए तो वहां पर पहले से ही बैठे विपक्ष प्रधान पति पुष्पेन्द्र राठौर व उनके समर्थकों ने ग्रामीणों के आने पर असहमति जतायी और आपत्ति लगाई कि गांव वालों को हटाया जाए। केवल पुष्पेन्द्र को ही सुना जाए जिस पर गांव के लोग भड़क गए और मामला उग्र देख कर के अधिकारी भी वहां से खिसक लिए।

इस बात की खबर जब तकस्थानीय पत्रकारों को हुई तब तक वहां से जांच अधिकारी बैरंग लौट चुके थे जब उनके द्वारा दूराभाष नंबर पर संपर्क साधा गया तो उन्होंने मीडिया को बताया कि मौके पर उपद्रव के कारण जांच नहीं हो पाई और जब जांच अधिकारी से गांव में पुलिस फोर्स लेकर जाने के बाबत पूछा गया तो उन्होंने बताया कि नहीं मैंने पुलिस फोर्स नहीं लिया था।

इस तरह जांच अधिकारी खुली बैठक करने के लिए बिना पुलिस फोर्स के ही गांव में पहुंचे थे जहां प्रधान पक्ष के द्वारा जाँच को प्रभावित कराने के उद्देश्य से उपद्रव करवाया गया। जिसकी वजह सेजांच अधिकारी बैरंग लौट गए।इस तरह गांव में प्रधान व सेक्रेटरी द्वारा व्यक्तिगत हितलाभ लेने की नियत कारित किए गए कुप्रशासन और भ्रष्टाचार की जाँच के लिए प्रशासनिक अधिकारियों के बीच पुलिस सुरक्षा बेहद जरुरी है वरना भृष्ट लोकसेवक प्रधान आदि कभी भी जाँच प्रकिया पूरी नहीं होने देंगे।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button