उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरमेरठ

तीन हजार करोड़ के बाइक बोट घोटाले में कई जिलों में छापेमारी, 178 बाइक बरामद

मेरठ। करीब तीन हजार करोड़ रुपये के बाइक बोट घोटाले में उत्तर प्रदेश पुलिस की आर्थिक अपराध एवं अनुसंधान शाखा (ईओडब्लू) ने सोमवार को बड़ी कार्रवाई की। मेरठ, गाजियाबाद, हापुड़, मुजफ्फरनगर और बागपत में पांच टीमों ने एकसाथ छापेमारी की। इस दौरान बाइक बोट कंपनी की 178 बाइकें बरामद की गईं जो निवेशकों से छिपाकर रखी गई थीं।

ईओडब्लू मेरठ सेक्टर के अपर पुलिस अधीक्षक डॉ. रामसुरेश यादव ने बताया कि वह नोएडा में दर्ज 57 मुकदमों की जांच कर रहे हैं। जांच में पता चला कि अभियुक्तों ने कुछ बाइक छिपाकर रखी हैं। सोमवार दोपहर करीब दो बजे पांच टीमों ने पांच जिलों में छापे मारे। मुजफ्फरनगर में मंडी थाना क्षेत्र के भोपा बस स्टैंड स्थित शिल्पी राज के गोदाम से 50 बाइक बरामद हुईं। गाजियाबाद के मुरादनगर में ईदगाह के पास इंटर कॉलेज से इरफान की निशानदेही पर 25 बाइक मिलीं। सिहानी गेट थाना क्षेत्र में ग्राम सिहानी से कुलदीप त्यागी ने 47 बाइक बरामद कराईं।

हापुड़ में कोतवाली देहात क्षेत्र में राजेश रानी ने पड़ोस में किराए पर लिए गोदाम से 25 बाइक बरामद कराईं। मेरठ में गंगानगर स्थित जीपी-31 मकान से 21 बाइक मिली हैं। विकास लाम्बा के पास इस कंपनी की फ्रेंचाइजी थी। बागपत में बड़ौत थाना क्षेत्र के लुहारी गांव से कपिल कुमार की निशानदेही पर 13 बाइक बरामद हुई हैं। सभी बाइक गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स से संबंधित हैं।

घोटाला खुलते ही बाइक चलाना बंद

ईओडब्लू एएसपी डॉ. रामसुरेश यादव ने बताया कि बरामद हुई सभी गाड़ियां बजाज कंपनी द्वारा निर्मित हैं। कंपनी से ही बाइक बोट का स्टीकर व लोगो लगकर आया था। इसमें कुछ गाड़ियां ऐसी हैं जो कंपनी के एजेंट इस्तेमाल कर रहे थे। कुछ बाइकें एकदम नई खड़ी हुई थीं। घोटाले का पर्दाफाश होने के बाद एजेंटों ने ये बाइक चलानी बंद कर दीं।

ऐसे हुई ठगी

कंपनी लोगों से एक बाइक की कीमत 62 हजार 100 रुपये का निवेश कराकर कमाई का लालच देती थी। प्लान था कि एक व्यक्ति बाइक की कीमत अदा करे। इसके बदले उसे हर महीने 9765 रुपये रिफंड मिलेंगे। तीन बाइक लगाने पर 9765 रुपये प्रति बाइक पेमेंट के साथ 4590 रुपये बोनस मिलेगा। इसके अलावा भी निवेशक को महंगे गिफ्ट मिलेंगे। उप्र, उत्तराखंड, दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान सहित देश के ज्यादातर राज्यों में कई लाख लोगों ने इस पौंजी स्कीम में कई करोड़ रुपये फंसा दिए। कंपनी शेयरधारकों ने यह पैसा विदेशों में भी लगा दिया। सैकड़ों करोड़ रुपये ऐंठकर कंपनी फरार हो गई।

500 से ज्यादा मुकदमे दर्ज

इस कंपनी का मालिक संजय भाटी है, जबकि सचिन भाटी, पवन भाटी, आदेश भाटी, राजेश भारद्वाज, करण पाल, दीप्ति बहल, विजयपाल कसाना इसमें पार्टनर हैं। साल 2019 में उप्र, दिल्ली, मध्यप्रदेश और राजस्थान में बाइक बोट कंपनी के खिलाफ करीब पांच सौ मुकदमे दर्ज हैं। संजय भाटी सहित 10 आरोपी गिरफ्तार हैं और 9 फरार हैं। 14 फरवरी 2020 से यूपी पुलिस की आर्थिक अपराध एवं अनुसंधान शाखा (मेरठ सेक्टर) नोएडा में दर्ज हुए 57 मुकदमों की जांच कर रही है।

Mukund

मुकुन्द बिहारी (स्वतंत्र टिप्पणीकार) स्वदेश चेतना, लोकमत, अनन्त टाइम्स, चरडीकला टाइम टीवी व अन्य कई समाचार पत्रों व न्यूज चैलन में विभिन्न पदों पर कई किरदार निभा चुके हैं। डिजिटल खबर व लेखनी को जगाए रखने में तत्पर रहते हैं। ये विडियो एडिटिंग की तकनिकी योग्यता रखते हैं।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button