उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरलखनऊ

उप्र सबसे बड़ा उपभोक्ता राज्य, निवेश घाटे का सौदा नहीं: नवनीत सहगल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव नवनीत सहगल ने कहा कि यह राज्य न सिर्फ श्रमिक एवं कच्चे माल की ²ष्टि से, बल्कि उपभोक्ताओं की संख्या की ²ष्टि से भी महत्वपूर्ण है, और इसलिए किसी भी उद्यमी के लिए यहां निवेश घाटे का सौदा नहीं हो सकता है। दूसरे राज्यों में रह रहे उत्तर प्रदेश के प्रवासियों के बीच काम करनेवाली संस्था उत्तर प्रदेश डेवलपमेंट फोरम (यूपीडीएफ) ने कोरोना के बाद बदली परिस्थितियों में अपने मूल प्रदेश में निवेश के इच्छुक उद्यमियों के साथ एक आयोजन किया था। इसमें प्रमुख सचिव सहगल ने भाग लिया।

नवनीत सहगल ने उद्यमियों को संबोधित करते हुए कहा, “न सिर्फ अन्य राज्यों से श्रमिक उत्तर प्रदेश की ओर लौट रहे हैं, बल्कि दूसरे राज्यों से उत्तर प्रदेश मूल के उद्यमी भी अपने प्रदेश में लौटना चाह रहे हैं। क्योंकि 20 करोड़ की आबादी वाला उत्तर प्रदेश एक बड़ा बाजार भी है। यहां श्रमिकों की उपलब्धता आसान है, तो अब आवागमन के साधन बेहतर हो जाने के कारण तैयार माल को अन्य राज्यों में भेजना भी मुश्किल नहीं रहा। इसलिए अन्य राज्यों में रह रहे उत्तर प्रदेश मूल के उद्यमी अपने प्रदेश में निवेश कर यहां के लोगों को रोजगार देते हुए अपने उद्योग में अच्छी प्रगति कर सकते हैं।”

वेबिनार में यूपीडीएफ के महासचिव सीए पंकज जायसवाल ने महाराष्ट्र, गुजरात एवं दुबई में रहकर अपने उद्योग चला रहे उद्यमियों से सहगल का परिचय कराया। सहगल के पास मुख्यमंत्री की पसंदीदा वन डिस्ट्रिक्ट, वन प्रोडक्ट योजना एवं खादी ग्रामोद्योग विभाग की भी जिम्मेदारी है। इस अवसर का लाभ उठाते हुए वेबिनार के माध्यम से जुड़े उद्यमियों ने सहगल को विस्तार से उत्तर प्रदेश में प्रस्तावित अपनी योजनाओं के बारे में बताया और सहगल ने कई उद्यमियों की समस्याओं का त्वरित समाधान भी किया।

यूपीडीएफ के उपाध्यक्ष एवं स्मॉल इंडस्ट्रीज मैन्यूफैक्च र्स एसोसिएशन के अध्यक्ष शैलेंद्र श्रीवास्तव ने कहा कि “दो वर्ष पहले उत्तर प्रदेश में हुए इन्वेस्टर्स समिट में रह गई कमियों से सबक लेते हुए यदि उद्यमियों की समस्याओं का समाधान किया जाए, तो अन्य प्रदेशों में रह रहे उत्तर प्रदेश मूल के उद्यमी विशेष तौर पर एमएसएमई क्षेत्र में बड़े पैमाने पर प्रदेश में निवेश कर सकते हैं। इस कार्य में अन्य प्रदेशों से लौटे स्किल्ड श्रमिकों का योगदान भी लिया जा सकता है।” वेबिनार में महाराष्ट्र, गुजरात के अलावा दुबई में ह रहे उत्तर प्रदेश मूल के ऐसे उद्यमियों ने भाग लिया जो अब उत्तर प्रदेश स्थित अपने मूल जनपद के आसपास उद्योग लगाने को इच्छुक हैं।

Saurabh Bhatt

सौरभ भट्ट पिछले दस सालों से मीडिया से जुड़े हैं। यहां से पहले टेलीग्राफ में कार्यरत थे। इन्हें कई छोटे-बड़े न्यूज़ पेपर, न्यूज़ चैनल और वेब पोर्टल में रिपोर्टिंग और डेस्क पर काम करने का अनुभव है। इनकी हिन्दी और अंग्रेज़ी भाषा पर अच्छी पकड़ है। साथ ही पॉलिटिकल मुद्दों, प्रशासन और क्राइम की खबरों की अच्छी समझ रखते हैं।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button