उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरबस्ती

आवास योजना से न वंचित रहे कोई भी पात्र: आशुतोष निरंजन

लाभार्थियों का आवास तेजी से पूरा कराने का निर्देश दिया है
जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन को प्रधानमंत्री आवास योजना के दोनों किस्त प्राप्त

बस्ती।  प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बस्ती जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन को दोनों किस्त प्राप्त हो गया है। उन्होंने कहा कि कार्यों में लापरवाही एवं शिथिलता पाए जाने पर तीन जेई एवं सर्वेयर को तत्काल प्रभाव से हटाने का निर्देश दिया है। उस समय वे कलेक्ट्रेट सभागार में डूडा के कार्यो की समीक्षा कर रहे थे।

समीक्षा में उन्होने पाया कि नगर पालिका बस्ती में कुल 10681 आवास स्वीकृत हुए है, जिसमे से 3062 लाभार्थियों को प्रथम 2604 को द्वितीय तथा 813 को तृतीय किस्त दी जा चुकी है। नगर पंचायत हर्रैया में 533 को प्रथम किस्त, 436 को द्वितीय किस्त तथा 266 को तृतीय किस्त दी गयी है। नगर पंचायत बभनान में 991 को प्रथम, 607 को द्वितीय तथा 244 को तृतीय किस्त लाभार्थियों को दी गयी है।

नगर पंचायत रूधौली बाजार में 1064 को प्रथम, 964 को द्वितीय तथा 370 को तृतीय किस्त दी गयी है। नगर पंचायत बनकटी में 1769 को प्रथम, 1553 को द्वितीय तथा 494 को तृतीय किस्त लाभार्थियों को दी जा चुकी है। प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत व्यक्तिगत आवास निर्माण (नया) कराये जाने का प्रावधान है।

इसके अन्तर्गत लाभार्थी के पास अपनी जमीन होनी चाहिए। वार्षिक आय रू0 03 लाख से कम होनी चाहिए। इसके लिए शासन द्वारा 03 किस्तों में रू0 02 लाख 50 हजार रूपये दिये जाते है। शेष रू0 01 लाख 30 हजार लाभार्थी केा स्वयं लगाना हेाता है। व्यक्तिगत आवास विस्तार के अन्तर्गत लाभार्थी के पास एक कमरे का मकान होने पर आवास विस्तार के लिए अधिकतम रू0 2.47 लाख तीन किस्तों में दिया जा सकता है। इसमें एक कमरा, किचन, लैट्रिंग-बाथरूम बनाया जा सकता है।

राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन रोजगारपरक कार्यक्रम है। इसके लिए जिलाधिकारी ने व्यक्तिगत स्वरोजगारी तथा समूह गठन करने के लिए निर्देश दिया है। उन्होने कहा कि लाकडाउन के दौरान वापस आये प्रवासी मजदूरों को स्वरोजगार की इन योजनाओं से लाभान्वित करें। बैठक का संचालन डूडा के परियोजना अधिकारी चन्द्रभान वर्मा ने किया। बैठक में सीडीओ सरनीत कौर ब्रोका तथा डूडा के सभी 18 अवर अभियन्ता उपस्थित रहे।

Saurabh Bhatt

सौरभ भट्ट पिछले दस सालों से मीडिया से जुड़े हैं। यहां से पहले टेलीग्राफ में कार्यरत थे। इन्हें कई छोटे-बड़े न्यूज़ पेपर, न्यूज़ चैनल और वेब पोर्टल में रिपोर्टिंग और डेस्क पर काम करने का अनुभव है। इनकी हिन्दी और अंग्रेज़ी भाषा पर अच्छी पकड़ है। साथ ही पॉलिटिकल मुद्दों, प्रशासन और क्राइम की खबरों की अच्छी समझ रखते हैं।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button