उत्तर प्रदेशदेशबड़ी खबरलखनऊ

केंद्र सरकार के आर्थिक पैकेज पर अखिलेश का सवाल, ग़रीबों को क्या मिला

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज पर केंद्र सरकार पर शनिवार को निशाना साधा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले महीने बीस लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज की घोषणा की थी। यादव ने ट्वीट किया,‘‘ सरकार बस इतना बता दे कि 20 लाख करोड़ के तथाकथित ‘महापैकेज’ में कितना ग़रीब के लिए है कितना किसान, दिहाड़ी-प्रवासी मज़दूर, छोटे व्यापारी, खुदरा कारोबारी, रेहड़ी-ठेले-पटरीवाले और अन्य मजबूरों के लिए है। समाज को बाँटने में माहिर लोग कृपया करके इस आर्थिक बटवारे का हिसाब भी दे दें।”

बता दें कि समाजवादी पार्टी ने मुजफ्फरनगर के सिसौली में गन्ना आपूर्ति न होने पर आत्महत्या करने वाले किसान के परिवार की एक लाख रुपये की मदद की है। सपा ने प्रदेश सरकार से पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपये सहायता देने की मांग की है। सपा अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा की गलत नीतियों के चलते उसके पिछले 6 सालों के कार्यकाल में किसान व व्यापारी बुरी तरह लुटे-पिटे हैं।

अखिलेश यादव ने कहा कि किसान आत्महत्या कर रहे हैं और भाजपा अपनी हवाई उपलब्धियों का जश्न मना रही है। मानवीय संवेदना के साथ ऐसा क्रूर मजाक भाजपा नेतृत्व ही कर सकता है। प्रदेश के गन्ना मंत्री के विधानसभा क्षेत्र से सटे बुढ़ाना विधानसभा क्षेत्र के सिसौली कस्बे में 55 वर्षीय किसान ओमपाल का गन्ना खतौली चीनी मिल ने लेने से मना कर दिया था। उसके 6 बच्चे हैं, घर की माली हालत खराब है। लॉकडाउन में दशा और बिगड़ी तो अवसाद में आकर उसने आत्महत्या कर ली। ओमपाल का तीन बीघा गन्ना खेत में खड़ा है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसानों का चीनी मिलों पर 20 हजार करोड़ रुपये बकाया है। किसान अपनी ट्रैक्टर ट्रॉली में गन्ना लिए मिल गेट के बाहर लाइन में खड़े-रहने को मजबूर हैं। खेत में खड़े गन्ने को जलाने के अलावा किसान के पास दूसरा विकल्प नहीं है क्योंकि चीनी मिलें अपने क्रय केंद्र उखाड़ रही हैं। उन्होंने कहा, किसान अपनी बर्बादी की कहानी किससे कहें, प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री को केवल घोषणाएं करके जिम्मेदारियों से मुक्त हो जाते हैं। बता दें कि अखिलेश यादव लॉकडाउन की वजह से बेरोजगार हुए प्रवासी मजदूरों की हालत, चीन और नेपाल के साथ चल रहे विवाद को लेकर भी लगातार केंद्र सरकार पर हमलावर रहे हैं।

Saurabh Bhatt

सौरभ भट्ट पिछले दस सालों से मीडिया से जुड़े हैं। यहां से पहले टेलीग्राफ में कार्यरत थे। इन्हें कई छोटे-बड़े न्यूज़ पेपर, न्यूज़ चैनल और वेब पोर्टल में रिपोर्टिंग और डेस्क पर काम करने का अनुभव है। इनकी हिन्दी और अंग्रेज़ी भाषा पर अच्छी पकड़ है। साथ ही पॉलिटिकल मुद्दों, प्रशासन और क्राइम की खबरों की अच्छी समझ रखते हैं।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button