खबर तह तक

बेशर्मी की चादर लपेटी महिलाओं ने दारू ना मिलने पर उतार दिए कपड़े

मुरादाबाद।  क्वारंटीन सेंटर में भेजी गई बार डांसरों ने मंगलवार शाम यहां हंगामा खड़ा कर दिया, बीयर की डिमांड करते हुए उन्होंने जमकर बवाल किया। एक महिला ने तो अपने ही तीन साल के बच्चे को बालकनी से लटकाकर नीचे गिरा देने की धमकी दी।

हद तो तब हो गई जब कुछ महिलाएं अर्द्घनग्न अवस्था में आ गई और कहा कि यदि उन्हें बीयर नहीं दी गई तो ठीक नहीं होगा। मौके पर पहुंची महिला पुलिस ने किसी तरह से मामला शांत किया। एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि एमआईटी क्वारंटीन सेंटर में मुंबई से आदर्श कालोनी लौटी महिलाओं को रखा गया था जिन्होंने बीयर के लिए हंगामा किया।
सहायक पुलिस अधीक्षक दीपक भूकर ने बताया कि मुंबई से आदर्श कालोनी लौटे 72 लोगों में तीन से 13 वर्ष की आयु के 12 बच्चे, 40 महिलाएं और 20 पुरुष हैं। मुंबई से लौटने के बाद इनमें से 20 की कोरोना टेस्टिंग हुई थी। जिनमें से पांच कोरोना पॉजिटिव निकले हैं।
लिहाजा एहतियातन मंगलवार को बाकी सभी को क्वारंटीन कर दिया गया। एएसपी ने बताया कि पहले तो महिलाएं क्वारंटीन सेंटर जाने को राजी नहीं थीं। किसी तरह उन्हें एमआईटी तक लाया गया। इसके बाद शाम को पांच बजे से इन्होंने हंगामा शुरू कर दिया।

डॉक्टरों व मेडिकल स्टाफ से महिलाएं बीयर की मांग करने लगीं। इंकार करने पर एक महिला ने अपने तीन साल के बच्चे को एमआईटी हॉस्टल की बालकनी से नीचे लटकाकर धमकी दी कि यदि उसे बीयर लाकर नहीं दी गई तो वह अपने बच्चे को नीचे फेंक देगी।  इसी दौरान दूसरी कुछ महिलाओं ने अपने कपड़े उतार फेंक और अंत: वस्त्रों में डांस करने लगीं। महिलाओं की जिद थी कि यदि उन्हें पीने को बीयर नहीं दी गई तो वह इसी तरह बवंडर करेंगी।

एएसपी ने बताया कि क्वारंटीन सेंटर से डॉक्टर का फोन आते ही तुरंत भारी संख्या में महिला पुलिस कर्मियों को एमआईटी भेजा गया। पुलिस कर्मियों के समझाने के बाद किसी तरह महिलाएं शांत हुईं। एएसपी ने बताया कि एमआईटी पर महिला पुलिस कर्मियों को ज्यादा तादाद में तैनात किया गया है।

पलक सिंह ने रक्तदान करके रक्तदान महादान के सिलसिले को दी गति

वहीं इनमें से निगेटिव आए 15 लोगों को देर रात बाकी से अलग एमआईटी में ही गर्ल्स हॉस्टल में शिफ्ट कर दिया गया है।इस सेंटर पर अब महिला पुलिसकर्मियों को तैनात कर पैनी नजर रखने को कहा गया है। एसएसपी के मुताबिक पुलिसकर्मियों की संख्या अपेक्षाकृत बढ़ा दी गई है और कहा कि किसी तरह की अव्यवस्था न होने दें। क्वारंटीन सभी महिलाओं को यह देखना चाहिए कि इस समय किस तरह की परिस्थिति हैं। ऐसे में सभी को नियमों के दायरे में ही रहना होगा।

 

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More