देशबड़ी खबर

हथिनी हत्याकांड: तीन गिरफ्तार आरोपियों ने कहा- जंगली सुअर के लिए लगाए पटाखे

कोल्लम/ पलक्कड़ (केरल)। केरल के कोल्लम जिले में गर्भवती हथिनी की हत्या के मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं, पलक्कड़ जिले में पिछले महीने हुई हथिनी की मौत के मामले में दो मुख्य आरोपियों की तलाश जारी है। इन दोनों ही हथिनियों ने फलों में रखे हुए पटाखे खा लिए थे, जिनके धमाके से उनके मुंह में घाव हो गए थे। कुछ खा-पी ना पाने के कारण दोनों हथिनियों की मौत हो गई थी। आरोपियों ने कहा है कि उन्होंने हाथियों के लिए नहीं बल्कि जंगली सुअरों के लिए फल में पटाखे रखे थे।

कोल्लम जिले के वन अधिकारी ने बताया, ‘पथनमपुरम में हुई हथिनी की हत्या के मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। मामले में कुल पांच आरोपी हैं, जिसमें से दो अभी भी फरार चल रहे हैं। फरार आरोपियों की तलाश जारी है।’ गिरफ्तार किए गए आरोपियों ने कहा है कि हाथी उनका शिकार नहीं थे। उन्होंने तो जंगली सुअर और भालुओं के लिए पटाखे वाले फल रखे थे लेकिन गलती से हाथियों ने इन्हें खा लिया।

दूसरी तरफ पलक्कड़ जिले के केस में आरोपियों की तलाश जारी है। इस मामले में 5 जून को एक आरोपी गिरफ्तार किया जा चुका है। राज्य सरकार की ओर से गठित की गई एसआईटी इस मामले की जांच कर रही है। इस घटना ने पूरे देश में आक्रोश की लहर पैदा कर दी थी और केंद्र सरकार ने भी दोषियों को ना छोड़ने का ऐलान किया था।

बता दें कि बीते दिनों पलक्कड़ में विस्फोटक से भरे फल खिलाए जाने के बाद 15 साल की एक गर्भवती हथिनी की मौत हो गई थी। हथिनी पानी में तीन दिनों तक बिना खाए-पिए खड़ी रही थी। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में पता चला कि पानी में सांस लेने के कारण हथिनी के फेफड़े खराब हो गए थे। साथ ही दो हफ्तों से उसने कुछ भी नहीं खाया

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में क्या आया?

हथिनी की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट ने जो कहा है वह काफी दर्दनाक है। हथिनी मुंह में विस्फोट और जबड़े क्षतिग्रस्त होने के कारण काफी तकलीफ में तो थी ही, साथ ही अपनी मौत से पहले उसने 14 दिनों से कुछ भी नहीं खाया था। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में बताया गया कि इस दौरान वह कुछ भी खा-पी नहीं सकती थी। पानी में जाने से पहले भूख-प्यास से परेशान होकर उसने गांव के कई चक्कर लगाए थे। एक अधिकारी ने बताया कि घायल होने और बहुत ज्यादा तकलीफ में होने के बाद भी उसने किसी को नुकसान नहीं पहुंचाया। किसी घर को कुचला नहीं। इससे पता चलता है कि वह अच्छाइयों से भरी हुई थी।

Saloni Bhatt

सलोनी भल्ला पत्रकारिता में पिछले चार साल से एक्टिव हैं। यहां से पहले अमर उजाला में कार्यरत थीं। "खबरी अड्डा" के बाद साथ-साथ लाइव टुडे में भी कार्यरत हैं। वॉयस ओवर आर्टिस्ट, कंटेंट राइटिंग, कंटेंट एडिटिंग और एंकरिंग में एक्सपीरियंस है। लेखन में पॉलीटिकल, क्राइम, एंटरटेनमेंट, ब्यूटी और हेल्थ के साथ-साथ गली मोहल्लों  की खबरों से लेकर सोशल मीडिया तक की चहल-पहल पर अपनी पैनी नजर रखती हैं।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button