उत्तर प्रदेशबड़ी खबरलखनऊ

उप्र में खुले धार्मिक स्थल, योगी ने की गोरखनाथ में पूजा

लखनऊ। कोरोना वायरस के कारण लम्बे समय से चल रहा लॉकडाउन अब खुलने लगा है। सरकार ने धार्मिक स्थलों को खोलने की इजाजत दे दी है। इसी क्रम में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री व गोरक्षपीठाध्वीश्वर योगी आदित्यनाथ ने सुबह उठने के बाद गुरु गोरखनाथ का दर्शन-पूजन करने के बाद मंदिर का भ्रमण किया।

सोमवार सुबह सबसे पहले धार्मिक स्थल खोले गए। मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा में लोग फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पहुंचे। लोगों ने वहां पर पूजा-अर्चना, नमाज तथा अरदास की। चर्च में भी काफी लोग पहुंचे हैं। लखनऊ में मनकामेश्वर मंदिर की महंत दिव्यागिरी भगवान शिव की पूजा करती नजर आयी। इस प्रकार हनुमान सेतु में भी भक्त पूजा के लिए कतार में दिखे। सभी ने मास्क पहन रखा था।

लखनऊ के हनुमान सेतु मंदिर में भक्त पूजा करने पहुंचे। एक ने कहा कि लॉकडाउन के बाद आज पहली बार मंदिर खुला है तो बहुत अच्छा लग रहा है। यहां बहुत अच्छी व्यवस्था की गई है फिजिकल डिस्टेंसिंग के साथ ही हर जगह सैनिटाइजर का प्रयोग किया गया है।

गोरखपुर में सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना की। इसके बाद लोग बड़ी संख्या में कतार में खड़े होकर दर्शन के लिए इंतजार करते हुए मंदिर में पहुंचे। गेट पर ही लोगों को सेनेटाइज किया जा रहा है। इसके साथ ही बिना मास्क के किसी को भी प्रवेश की इजाजत नहीं है।

कोरोना संक्रमण से निजात और लोक कल्याण के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार की सुबह गोरखनाथ मन्दिर में रुद्राभिषेक किया। मंदिर के शक्तिपीठ में आयोजित इस आनुष्ठानिक पूजन को प्रधान पुरोहित आचार्य रामानुज त्रिपाठी वैदिक ने वेदपाठी ब्राह्मणों के साथ सम्पन्न कराया। इससे पहले मुख्यमंत्री ने गुरु गोरखनाथ की वैदिक मंत्रोच्चार के साथ पूजा-अर्चना की और अपने गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ के समाधि स्थल पर जाकर आशीर्वाद लिया।

इसी क्रम में उन्होंने मन्दिर परिसर का भ्रमण कर उस इंतजाम को देखा, जिसके लिए उन्होंने रविवार की देर रात निर्देशित किया था। 80 दिन बाद सोमवार से मन्दिर के कपाट श्रद्घालुओं के लिए खोल दिये गए हैं। अभी तक मंदिर में कम श्रद्घालु ही आये है। मुख्यमंत्री का निर्देश दर्शन-पूजन के दौरान हर हाल में फिजिकल डिस्टेंसिंग के पालन को लेकर है।

लखनऊ के ईदगाह मस्जिद में लोगों ने नमाज अदा की। मस्जिद में प्रवेश करने से पहले लोगों की स्क्रीनिंग और हाथ सैनिटाइज कराए गए। यहां पर भी लोग मास्क लगाकर पहुंचे जबकि फिजिकल डिस्टेंसिंग का भी कड़ाई से पालन किया जा रहा है।

मथुरा में सोमवार को भले ही मथुरा और वृन्दावन के कुछ प्रमुख मंदिर नहीं खोले गए है, लेकिन श्रीष्ण जन्मभूमि को खोला गया है। यहां पर सुबह से ही लोग दर्शन करने पहुंचे हैं। मथुरा में इसको लेकर सुरक्षा-व्यवस्था काफी कड़ी की गई है और लोगों से मानकों का पालन भी करने की अपील की गई है।

यहां पर सुबह सात से दोपहर 12 बजे तक और शाम को चार बजे से रात के 8 बजे तक श्रद्घालु यहां दर्शन कर सकेंगे।
आलमबाग और नाका गुरूद्वारा में भक्त कतार में पहुंचे और वहां पर भी सेनिटाइजर और मास्क में लोग नजर आए। वहां भी सारी गाइडलाइनों का पालन हो रहा था। राजधानी के गिरजाघरों में भी श्रद्घालु अपनी बारी का इंतजार करते दिखे।

Saurabh Bhatt

सौरभ भट्ट पिछले दस सालों से मीडिया से जुड़े हैं। यहां से पहले टेलीग्राफ में कार्यरत थे। इन्हें कई छोटे-बड़े न्यूज़ पेपर, न्यूज़ चैनल और वेब पोर्टल में रिपोर्टिंग और डेस्क पर काम करने का अनुभव है। इनकी हिन्दी और अंग्रेज़ी भाषा पर अच्छी पकड़ है। साथ ही पॉलिटिकल मुद्दों, प्रशासन और क्राइम की खबरों की अच्छी समझ रखते हैं।

संबंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button