खबर तह तक

अमेठी में अब तक के सबसे बड़े लूट कांड की सबसे बड़ी और सबसे तेज रिकवरी।

0

लोकेश त्रिपाठी अमेठी – अगर पुलिस अपने पर आ जाती है तो बड़े बड़े अपराधियों के छक्के छूट जाते हैं । उनको ढूंढने पर कहीं रास्ता नहीं दिखाई पड़ता है। ऐसा ही मामला अमेठी जनपद में देखने को मिला जहां पर मुसाफिरखाना थाना क्षेत्र में 28 दिसंबर 2020 की शाम लगभग 7:00 बजे सर्राफा व्यवसाई अपनी दुकान को बंद कर अपना ज्वेलरी का सामान लेकर घर जा रहे दुकानदार की आंखों में अज्ञात बाइक सवार तीन बदमाशों के द्वारा मिर्ची पाउडर झोंक कर अवैध असलहे की नोक पर करोड़ों रुपए के ज्वेलरी का सामान सहित बैग ले उड़े। जिसमें 1 किलो 118 ग्राम सोना 8 किलो 847 ग्राम चांदी ₹17600 नगद रुपये मौजूद थे। जैसे ही सर्राफा व्यवसाई के साथ लूट की घटना हुई सर्राफा व्यवसाई ने आवाज लगाई जब तक सब लोग पहुंचे तब तक लुटेरे फायर करते हुए भाग निकले यह सुनते ही जंगल के आग की तरह पूरे मुसाफिरखाना कस्बे में फैल गई आनन-फानन में पुलिस को सूचना दी गई पुलिस ने मौके पर पहुंच कर तफ्तीश शुरू कर दी और सर्राफा व्यवसाई की तहरीर पर तत्काल मुकदमा पंजीकृत करते हुए कार्यवाही शुरु कर दी इसी बीच पूरे जनपद के बॉर्डर को सील करते हुए सघन चेकिंग अभियान चलाया गया इस काम में विशेष रुप से एसओजी टीम को लगाया गया जिसके प्रभारी विनोद यादव ने पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह के निर्देश पर तथा पुलिस क्षेत्राधिकारी मनोज यादव के नेतृत्व में लुटेरों की खोजबीन शुरू कर दी लूट संबंधी सभी पहलुओं पर नजर डालते हुए सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए तथा मुखबिर को जगह जगह पर लगा दिया गया रात भर काम चलता रहा इसी बीच मुखबिर खास की सूचना पर एसओजी प्रभारी ने सुल्तानपुर की तरफ बढ़ रहे बाइक सवार तीन बदमाशों का पीछा किया तभी करपिया मोड़ के पास बाइक सवार तीनों बदमाश रसूलाबाद जंगल की तरफ भागे जब पुलिस टीम के द्वारा इनको रोकने की कोशिश की गई तब इन बदमाशों ने पुलिस के ऊपर ताबड़तोड़ गोलियां चला दी जवाबी फायरिंग पुलिस के द्वारा भी की गई दोनों तरफ से लगभग एक दर्जन राउंड से अधिक गोलियां चली इस दौरान एसओजी प्रभारी विनोद यादव के हाथ में गोली लगी जिससे वह घायल हो गए वह पर दो बदमाशों के पैर में गोली लगी जिससे घायल होकर गिर पड़े तथा एक बदमाश अपने साथी दोनों को घायल होते देख मौके से भागने लगा तभी पुलिस ने दौड़ाकर उसको ही पकड़ लिया इस प्रकार तीनों बदमाशों को मौके पर धर दबोचा गया। घायल हुए बदमाशों तथा एसओजी प्रभारी विनोद यादव को तत्काल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मुसाफिरखाना ले जाया गया जहां से प्राथमिक उपचार के बाद तीनों को जिला अस्पताल भेज दिया गया। पकड़े गए तीनों बदमाशों के पास से सर्राफा व्यवसाई से लूटे गए सारा सामान बरामद कर लिया तथा इसी के साथ उनके पास से एक पिस्टल एक आदत अवैध तमंचा जिंदा कारतूस तथा खोखा कारतूस भी बरामद किया गया पकड़े गए सभी अभियुक्तों को सुसंगत धाराओं में निरुद्ध करते हुए जेल भेजा जा रहा है । वही इतनी बड़ी लूट कांड का 10 घंटे के अंदर खुलासा करने पर एसओजी पुलिस टीम को पुलिस अधीक्षक द्वारा ₹25000 नकद इनाम की घोषणा भी की गई है। लूट का पूरा माल बरामद होने के बाद सराफा व्यवसाई मैं पुलिस की पूरी टीम के साथ मीडिया को बहुत-बहुत धन्यवाद ज्ञापित किया है ।

इस बड़े लूट और मुठभेड़ का खुलासा करते हुए जिले के पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने बताया कि यह दिनांक 28 दिसंबर 2020 अर्थात कल की घटना है जहां पर थाना मुसाफिरखाना अंतर्गत छेदी हाजी सर्राफ अपनी दुकान बंद कर शाम लगभग 7:00 बजे अपने नौकर के साथ अपने घर जा रहा था रास्ते में 3 लोगों ने सुपर स्प्लेंडर गाड़ी से आकर उनकी आंखों में मिर्ची पाउडर डालकर तमंचा लगाकर उनका बैग छीन लिया यह घटना जैसे ही पता चली तुरंत पूरे जिले की नाकेबंदी कर दी गई थानाध्यक्ष मोहनगंज थाना अध्यक्ष शिवरतन गंज थाना अध्यक्ष कमरौली थानाध्यक्ष मुसाफिरखाना तथा क्षेत्राधिकारी मुसाफिरखाना मनोज यादव के नेतृत्व में पूरे जनपद की नाकेबंदी कर दी गई। जगह-जगह तलाशी अभियान चलाया गया वहां पर जो सीसीटीवी फुटेज था उसको भी हम लोगों ने खंगाला तथा हम लोगों ने सुराग कशी की जिसका परिणाम यह हुआ कि सुबह लगभग 4:00 बजे रसूलाबाद के जंगल के पास पुलिस से मुठभेड़ हुई जिसमें पुलिस ने इन लोगों को रोकने की कोशिश की तब इन लोगों ने पुलिस के ऊपर फायर कर दिया जिस पर पुलिस ने जवाबी फायर किया जिसमें गुफरान और सुरेश के पैर में गोली लगी तथा पुलिस पार्टी में हमारे एसओजी प्रभारी विनोद यादव भी घायल हुए पुलिस ने उनके पास से सभी लूटे गए सामान की रिकवरी कर ली जिसमें 1 किलो 118 ग्राम सोना 8 किलो 847 ग्राम चांदी ₹17600 नगद और इसके अलावा उनके दुकान की चाबी बैग जो भी था सब बरामद कर लिया गया दो अभी तो घायल हुए हैं तथा एक अन्य अभियुक्त की गिरफ्तारी हुई है दो अभियुक्त कस्बा मुसाफिरखाना के ही रहने वाले हैं जबकि एक अभियुक्त सुल्तानपुर का रहने वाला है घटना के मात्र 10 घंटों के अंदर हमारी टीम में बड़ा खुलासा किया है इसमें पुलिस टीम के कोआर्डिनेशन और परिश्रम के लिए मैं पूरी टीम को ₹25000 नगद पुरस्कार देने की घोषणा करता हूं इनके अपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है अभी एक व्यक्ति के अपराधिक इतिहास के विषय में पता चला है और जो भी आगे पता चलेगा उसकी जानकारी साझा की जाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More