खबर तह तक

लखनऊ: थाने में तड़पता रहा घायल, चाय की चुस्कियां लेती रही पुलिस

0

लखनऊ: पीजीआई थाने में पुलिस का अमानवीय चेहरा देखने को मिला. यहां थाने में लाया गया एक युवक घायल अवस्था में पड़ा था, लेकिन पुलिसकर्मी चाय-नाश्ता कर रहे थे. मामले की जानकारी मिलने पर मीडिया मौके पर पहुंची. मीडिया के सवाल करने पर दारोगा युवक को अस्पताल भेजने की बात कहने लगे.

जानें पूरा मामला

पीजीआई थाना क्षेत्र के तेलीबाग गांधी नगर का रहने वाला वीरेंद्र कुमार रेलवे में खलासी के पद पर कार्यरत है. वीरेंद्र कुमार के मुताबिक वीरेंद्र ने सन 2003 में गांधी नगर तेलीबाग में 680 स्क्वायर फीट का एक प्लाट खरीदा था. इसके लिए वीरेंद्र ने विजया बैंक से 20 लाख रुपये का लोन भी कराया था. वहीं 70 लाख रुपये अपने पीएफ से निकालकर मकान बनवाया था. वर्तमान में वीरेंद्र परिवार समेत उसी मकान में रह रहा था.

वीरेंद्र के घर के सामने एक सिपाही राजकुमार वर्मा रहते हैं. बताया जा रहा है कि राजकुमार पूर्व में एलडीए बीसी का गनर था. आरोप है कि राजकुमार ने वीरेंद्र पर घर बेचने को लिए दबाव बना रहा था. जब वीरेंद्र ने घर बेचने से इनकार किया तो राजकुमार ने एलडीए के उच्च अधिकारियों से मिलकर जमीन को नजूल की घोषित करा दिया. सिपाही राजकुमार वर्तमान समय में चुनाव आयुक्त एल वेंकटेश लू का गनर है.

राजकुमार आज एलडीए का दस्ता लेकर वीरेंद्र का मकान गिराने पहुंच गया. वहीं सिपाही राजकुमार के साथ दो-तीन पीजीआई थाने के सिपाही और एसडीएम भी आ गए. वीरेंद्र एसडीएम के सामने गिड़गिड़ाया, लेकिन उन्होंने थाने चलकर सारी बात बताने को कहा. वीरेंद्र का कहना है थाने ले जाने के बाद किसी ने मेरी सुध नहीं ली. घंटों भूखे-प्यासे बैठने से वीरेंद्र को चक्कर आ गया और उसका सिर फूट गया. इसके बाद भी किसी ने उसकी सुध नहीं ली और थाने में सभी पुलिसकर्मी चाय-पानी करते रहे. मीडिया के पहुंचने पर पुलिसकर्मी वीरेंद्र को अस्पताल भेजने की बात कहने लगा.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More